एंटीवायरस के गुरु कहे जाने वाले जॉन मैकेफी ने जेल में लगाई फांसी

स्पेन से अमेरिका प्रत्यर्पित करने संबंधी फैसले के बाद यह कदम उठाया

वाशिंगटन:एंटी वायरस गुरु और McAfee के संस्थापक जॉन मैकेफी ने बुधवार को जेल में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. उन्होंने स्पेन से अमेरिका प्रत्यर्पित करने संबंधी फैसले के बाद यह कदम उठाया.

मैकेफी 1987 में दुनिया का पहला कमर्शियल एंटीवायरस लॉन्च करने से पहले नासा, जिरॉक्स, लॉकहीड मार्टिन जैसी संस्थाओं के साथ काम कर चुके हैं. उन्होंने अपनी सॉफ्टवेयर कंपनी इंटेल को साल 2011 में भेज दी थी और अब वह इस व्यापार से जुड़े हुए नहीं थे. हालांकि सॉफ्टवेयर के साथ अब भी उनका नाम जुड़ा हुआ है और दुनियाभर में इसके 500 मिलियन यूजर्स हैं.

अपने विलक्षण व्यवहार और वीडियो के लिए जाने जाने वाले, 75 वर्षीय मैकेफी एंटी-वायरस सॉफ़्टवेयर के क्षेत्र में माने जाने शख्स थे. उनपर टेनेसी में टैक्स चोरी के आरोप थे. न्यूयॉर्क में उनपर एक क्रिप्टोकरेंसी धोखाधड़ी के मामले में भी आरोप लगाए गए थे.

जॉन मैकेफी को बार्सिलोना एयरपोर्ट से अक्तूबर 2020 को गिरफ्तार किया गया था. जॉन मैकेफी की गिरफ्तारी उस समय हुई जब वे ब्रिटिश पासपोर्ट के साथ बार्सिलोना एयरपोर्ट से इस्तांबुल जाने के लिए फ्लाइट ले रहे थे.

उन्होंने 15 अक्टूबर 2020 को एक ट्वीट भी किया था. उन्होंने लिखा था, मैं यहां कैद हूं. यहां मेरे दोस्त हैं. खाना अच्छा है. सब ठीक है, अगर मैं फांसी लगा लेता हूं तो यह मेरी गलती नहीं होगी.

मैकेफी पर 2014 और 2018 के बीच जानबूझकर टैक्स रिटर्न दाखिल न करने का आरोप था. उन्होंने क्रिप्टो करेंसी से लाखों की कमाई की और अपने जीवन की कहानी के अधिकार बेचे इसके बावजूद उन्होंने टैक्स नहीं भरा.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button