अंत्योदय ही छत्तीसगढ़ में विकास का आधार : डॉ रमन सिंह

मुख्यमंत्री राजनांदगांव में आयोजित वक्फ कार्यशाला और अल्पसंख्यक सम्मेलन में हुए शामिल

राजनांदगांव : मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह आज जिला मुख्यालय राजनांदगांव में आयोजित वक्फ कार्यशाला और अल्पसंख्यक सम्मेलन में शामिल हुए। उन्होंने यहां पद्मगोविंदराम निर्मलकर ऑडिटोरियम में सम्मेलन के दौरान शहरी वक्फ संपत्तियों का विकास योजना के अंतर्गत आवासीय परिसर निर्माण के लिए स्वीकृत राशि के वितरण का शुभारंभ किया और गोल बाजार जामा मस्जिद राजनांदगांव के मुतवल्ली कमेटी को आवासीय परिसर के निर्माण के लिए स्वीकृत 75 लाख रूपए का चेक वितरित किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने राजधानी रायपुर में शीघ्र ही हज भवन का निर्माण होने के लिए आश्वस्त किया। शहरी वक्फ संपत्तियों का विकास योजना के अंतर्गत वर्तमान में छत्तीसगढ़ राज्य वक्फ बोर्ड को छ: निर्माण कार्यों के लिए तीन करोड़ 48 लाख रूपए की राशि स्वीकृत की।

मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि अंत्योदय को ही छत्तीसगढ़ में विकास का आधार मना गया है। इसके तहत समाज के अंतिम व्यक्ति के कल्याण पर जोर दिया जा रहा है। उनकी बेहतर शिक्षा तथा स्वास्थ्य और कौशल विकास के लिए सरकार द्वारा अनेक कार्यक्रम चलाए जा रहे है। जिससे कमजोर तथा पिछड़े सहित समाज के हर वर्ग के लोगों का उत्थान हो। मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने कहा कि छत्तीसगढ़ में हर तरफ विकास की लहर है। यहां विकास ही विकास और शांति के साथ विकास की अच्छी खासियत है। यह विकास राज्य में सामाजिक समरसता, सौहद्र्रता और आपसी भाई चारा से ही फलीभूत हो रहा है। जिसका उदाहरण देश के अन्य राज्यों में भी दिया जाता है। उन्होंने कहा कि यहां सभी समाज के लोग आपस में मिल-जुल कर रहते हैं। इसी सद्भावना तथा आपसी भाईचारा से छत्तीसगढ़ के विकास को और मजबूती मिल रही है।

सम्मेलन को सांसद अभिषेक सिंह ने संबोधित करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ के सरकार द्वारा लोगों की बेहरती के लिए हर संभव पहल की जा रही है। शासन की जनकल्याणकारी योजनाओं का लाभ समाज के अंतिम छोर तक पहुंचाया जा रहा है। इसमें शासन की मंशा है कि विकास से कोई भी वर्ग और समाज अछूता न रहे। सांसद सिंह ने वक्फ संपत्तियों के विकास योजना का उल्लेख किया और मुस्लिम समुदाय के लोगों के हित में इसका बेहतर से बेहतर उपयोग करने के लिए कहा। इस अवसर पर छत्तीसगढ़ राज्य वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष मो. सलीम अशरफी ने भी सम्मेलन को संबोधित किया। उन्होंने बताया कि वक्फ की खाली पड़ी जमीनों पर अस्पताल, स्कूल भवन, सामुदायिक भवन आदि निर्माण कार्यों के लिए सरकार द्वारा बिना ब्याज की राशि ऋण के रूप स्वीकृत किए जा रहे हैं। इसके तहत वर्तमान में राज्य वक्फ बोर्ड को छ: विभिन्न निर्माण कार्यों के लिए तीन करोड़ 48 लाख रूपए की राशि स्वीकृत है। इनमें हनफी मस्जिद गोलबाजार राजनांदगांव के अलावा अंजुमन इस्लाहुल मुस्लिेमीन वक्फ जामा मस्जिद कमेटी अंबिकापुर को 75 लाख रूपए, सुन्नीजामा मस्जिद बलौदाबाजार को 3 कार्यों के लिए एक करोड़ 32 लाख रूपए तथा अंजुमन इस्लामियन कमेटी धमतरी को 66 लाख रूपए स्वीकृत है। उन्होंने इसके लिए शासन के प्रति आभार भी जताया।

इस अवसर पर बीस सूत्रीय कार्यक्रम क्रियान्वयन समिति के उपाध्यक्ष खूबचंद पारख, महापौर मधुसूदन यादव, छत्तीसगढ़ राज्य समाज कल्याण बोर्ड की अध्यक्ष शोभा सोनी, छत्तीसगढ़ राज्य भण्डार गृह निगम के अध्यक्ष नीलू शर्मा, छत्तीसगढ़ उर्दू अकादमी के अध्यक्ष अकरम कुरैशी, विधायक डोंगरगढ़ सरोजनी बंजारे, जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक के अध्यक्ष सचिन बघेल, राजगामी संपदा न्यास के अध्यक्ष रमेश पटेल, नगर निगम के सभापति शिव वर्मा, पूर्व विधायक कोमल जंघेल, समाज सेवी बहादुर अली, डॉ. एस.ए. फारूकी के अलावा कलेक्टर भीम सिंह सहित जनप्रतिनिधि एवं समाज के पदाधिकारीगण उपस्थित थे।

Back to top button