छत्तीसगढ़

शिक्षाकर्मियों की बहुप्रतिक्षित मांग अनुकंपा नियुक्ति को मिली मंजूरी

रायपुर।

छत्तीसगढ़ सरकार ने एक संवेदनशील फैसला लेते हुए शिक्षाकर्मियों की एक और मांग को मान लिया है। शिक्षाकर्मियों की यह मांग रही है कि दिवंगत शिक्षाकर्मियों के आश्रितों को अनुकंपा नियुक्ति मिले। इस मांग को मांनते हुए एक मुख्यमंत्री ने अपनी स्वीकृति दे दी है। अब अनुकंपा के नियमों को शिथिल करते हुए अनुकंपा नियुक्ति दी जाएगी। काफी समय से शिक्षाकर्मी इस मांग पर अड़े हुए थे।

आपको बता दें कि बीते दिनों हुए शिक्षक महासम्मेलन में ऐसे शिक्षक जिनकी मौत संविलियन से पहले हो चुकी है, उनके परिजन परिवार के सदस्य इस बात को रखते हुए फूट-फूट कर रोने लगी थे। जिसके बाद अब मुख्यमंत्री ने इनकी मांग को मान लिया है।

ज्ञात हो कि मोर्चा प्रदेश संचालक वीरेंद्र दुबे ने शिक्षक महासम्मेलन के प्रतिवेदन वाचन में अनुकम्पा नियुक्ति को सर्वोच्च प्राथमिकता देते हुए पहली मांग के रूप में प्रस्तुत किया था। केदार जैन ने भी स्वागत भाषण में अनुकम्पा नियुक्ति का मामला उठाया था। इसके पूर्व मुख्यमंत्री से हुई मुलाकातों में हमेशा अनुकम्पा नियुक्ति के मामलों को प्रमुखता से रखा गया था।

शिक्षक महासम्मेलन में अनुकम्पा पीड़ितों को विशेष रूप से मुख्यमंत्री का स्वागत और मुलाकात करने का अवसर महासम्मेलन के आयोजकों द्वारा प्रदान किया गया था। अनुकम्पा के नियमों के शिथिलिकरण के आदेश से प्रसन्न प्रदेश संचालक वीरेंद्र दुबे और केदार जैन ने हर्ष व्यक्त किया है और समस्त अनुकम्पा पीड़ितों को बधाई दी है। साथ ही इस संवेदनशील निर्णय के लिए मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह और छग मंत्रिमंडल का आभार व्यक्त किया है।

Summary
Review Date
Reviewed Item
शिक्षाकर्मियों की बहुप्रतिक्षित मांग अनुकंपा नियुक्ति को मिली मंजूरी
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags