सेना प्रमुख बिपिन रावत ने जम्मू-कश्मीर पर UN की रिपोर्ट खारिज की

रावत ने यूएन की रिपोर्ट पर कहा कि इस पर ध्यान देने की जरूरत नहीं क्योंकि कुछ रिपोर्ट्स मोटिवेटड होती हैं।

सेना प्रमुख बिपिन रावत ने आज जम्मू-कश्मीर पर संयुक्त राष्ट्र की उस रिपोर्ट को खारिज किया जिसमें कहा गया है कि कश्मीर में नागरिकों के अपहरण, हत्या और यौन हिंसा जैसे मानवाधिकार उल्लंघन के वाकये जारी हैं।

रावत ने यूएन की रिपोर्ट पर कहा कि इस पर ध्यान देने की जरूरत नहीं क्योंकि कुछ रिपोर्ट्स मोटिवेटड होती हैं। सेना प्रमुख ने कहा कि सेना घाटी में शानदार काम कर रही है। साथ ही उन्होंने कहा कि आजकल आतंकी हमले की साजिश रचने के लिए तकनीक का इस्तेमाल कर रहे हैं। बता दें कि हाल ही में संयुक्त राष्ट्र ने जम्मू-कश्मीर में मानवाधिकार उल्लंघन को लेकर एक रिपोर्ट जारी की थी जिसमें सेना के कामकाज पर सवाल उठाए गए थे। यूएन की इस रिपोर्ट का भारत सरकार ने कड़ा विरोध किया था।

ये थी UN की रिपोर्ट

UN में अपनी रिपोर्ट में हिज्बुल मुजाहिदीन के आतंकी बुरहान वानी पर चर्चा की कि वह सुरक्षाबलों के हाथों मारा गया जिसका कश्मीर में काफी विरोध हुआ था। रिपोर्ट में कश्मीरी नागरिकों के अपहरण, हत्या समेत मानवाधिकार का जिक्र भी किया गया।

यूएन ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि मानवाधिकार उल्लंघन मामलों का समाधान होना चाहिए ताकि कश्मीर के नागरिकों के साथ हो रही हिंसा बंद हो। उल्लेखनीय है कि भारत सरकार ने यूएन की रिपोर्ट को पक्षपातपूर्ण और भ्रमक बताकर इसको खारिज किया था। विदेश मंत्रालय ने इस पर कड़ी आपत्ति जताई थी और कहा था कि यूएन अपनी रिपोर्ट में घाटी की गलत तस्वीर पेश कर रही है।

Back to top button