राष्ट्र की रक्षा के लिए सेना पूरी ताकत का करेगी इस्तेमाल : कोविंद

नई दिल्ली : पुलवामा में 14 फरवरी को आतंकवादी हमले की घटना के बाद आतंकवादियों पर भारतीय वायुसेना के हवाई हमले का जिक्र करते हुए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा कि राष्ट्र की संप्रभुता की रक्षा के लिए भारत अपनी पूरी ताकत का इस्तेमाल करेगा। राष्ट्रपति ने एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि विभिन्न देशों के समूह में भारत का बढ़ता कद उसके सशस्त्र बलों की ताकत और क्षमता के अनुरूप है।

भारत शांति के लिये दृढ़ संकल्प
कोविंद ने कहा कि भारत शांति के लिये दृढ़ संकल्प है लेकिन जरूरत पडऩे पर राष्ट्र की संप्रभुता की रक्षा के लिये हम अपनी पूरी ताकत का इस्तेमाल करेंगे। मुझे यकीन है कि सेना में हमारे शूरवीर पुरुष और बहादुर महिला सैनिक ऐसे समय में अपना दमखम दिखायेंगे। उन्होंने कहा कि उनकी वीरता और पेशेवर दक्षता को हमने हाल में देखा है। जिस तरह से भारतीय वायुसेना ने एक ज्ञात आतंकवादी ठिकाने को निशाना बनाकर हमले किये और एहतियातन कार्रवाई को सफलतापूर्वक संपन्न किया, यह उसी का उदाहरण है।

वायुसेना हो रही आधुनिक
कोविंद ने कहा कि समसामयिक प्रगति की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए वायुसेना लगातार आधुनिक हो रही है और वह एक वृहद एवं व्यापक आधुनिकीकरण योजना की दिशा में अग्रसर है। उन्होंने कहा कि हमारे राष्ट्र के संप्रभु आसमानी क्षेत्र की सुरक्षा के अलावा भारतीय वायुसेना मानवीय सहायता और आपदा राहत (एचएडीआर) मुहिमों में भी आगे रही है। हमारे बहादुर वायु योद्धाओं द्वारा प्रर्दिशत लचीलापन और दृढ़ता राष्ट्र के लिये गर्व का एक बड़ा स्रोत है।

सेना ने राष्ट्र को किया गौरवान्वित
राष्ट्रपति ने कहा कि हकीमपेट स्थित एयरफोर्स स्टेशन और सूलूर स्थित 5 बेस रिपेयर डिपो दोनों का पेशेवर दक्षता का समृद्ध इतिहास रहा है और उसने शांति के महत्व एवं युद्ध की स्थिति के दौरान राष्ट्र को गौरवान्वित किया है। विपरीत परिस्थिति में भी अपनी नि:स्वार्थ सेवा, निष्ठा, पेशेवर दक्षता एवं साहस के लिये राष्ट्र आज उनके प्रति आभार जताता है और उनकी प्रशंसा करता है। उन्होंने कहा कि उनके शानदार प्रदर्शन को देखते हुए मुझे एयरफोर्स स्टेशन, हकीमपेट और 5 बेस रिपेयर डिपो को प्रेसिडेंट कलर्स प्रदान करते हुए बेहद प्रसन्नता हो रही है।

Tags
Back to top button