राष्ट्रीय

तमिलनाडु में हो गया चक्रवाती तूफान निवार का आगमन, पढ़े खबर

नई दिल्लीः चक्रवाती तूफान निवार का आगमन तमिलनाडु में हो गया है. तूफान के कारण लगातार तेज हवा के थपेड़े चेन्नई और कडलोर में समुद्र तट से टकरा रहे हैं. इसके साथ ही पुदुचेरी में तेज हवाओं के साथ जोरदार बारिश भी देखी जा रही है.

मौसम विभाग के अनुसार तमिलनाडु के महाबलीपुरम में निवार तूफान का प्रकोप देखा जा सकता है. यहां तेज रफ्तार हवाएं समुद्र तट से टकरा रहीं हैं. मौसम विभाग ने बताया है कि बीते 6 घंटे में निवार तूफान 16 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से आगे बढ़ रहा है.

वहीं Cyclone Nivar के चलते चेन्नई की सभी उड़ानें रद्द कर दी गई हैं. जिसके चलते 25 नवंबर को शेड्यूल की गई 49 फ्लाइट्स को कैंसिल कर दिया गया था.

Cyclone Nivar से जुड़ी बड़ी बातें 1. भारत में Cyclone Nivar का प्रकोप सबसे ज्यादा तमिलनाडु और पुदुचेरी में देखने को मिल सकता है. Cyclone Nivar को ‘गंभीर चक्रवाती तूफान’ की श्रेणी में रखा गया है. बताया जा रहा है कि निवार के कारण सबसे ज्यादा नुकसान घरों, बिजली की लाइनों और फसलों को हो सकता है.

  1. मौसम विभाग के अनुसार Cyclone Nivar की स्पीड 120 से 130 किमी प्रति घंटे बताई गई है. जिस दौरान भारी बारिश और तेज हवाओं की चेतावनी दी गई है. वहीं तटीय क्षेत्रों में आवाजाही पर रोक लगाई गई है.

  2. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चक्रवात निवार का हाई अलर्ट जारी होने के बाद तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के पलानीस्वामी और पुडुचेरी के मुख्यमंत्री वी नारायणसामी से बातचीत कर हालात की जानकारी ली और केंद्र से हर संभव मदद का भरोसा दिया.

  3. पुदुचेरी की एलजी किरण बेदी ने सोशल मीडिया के माध्यम से लोगों को सावधानी बरतने की अपील की है. उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा कि पुदुचेरी में तेज रफ्तार से हवाएं चल रही हैं और सुबह के 5 बजे तक ऐसा ही रहने की संभावना लग रही है. ऐसे में सभी लोग एहतियात बरतते हुए अपने घरों में रहे.

  4. Cyclone Nivar से बचाव के लिए तमिलनाडु के आपदा प्रबंधन मंत्री आरबी उधयाकुमार ने बड़े व्यापक स्तर पर कदम उठाए हैं. उनका कहना है कि एहतियातन राज्य के लगभग 1.45 लाख लोगों को 1,516 राहत शिविरों में स्थानांतरित किया गया है.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button