छत्तीसगढ़

विद्यार्थियों ने बनाई कलात्मक मेंहदी

रायपुर : भारतीय संस्कार मेे मेंहदी की ओर से खुशी का इजहार किया जाता है, जहां मेंहदी रस्मो-रिवाज की एक पावन प्रक्रिया है। वहीं कलात्मकता की अभिव्यक्ति मेंहदी से की जाती है। प्रगति महाविद्यालय के विद्यार्थियों में मोनिका ने अरेबियन मेंहदी , रिम्मी रानी रथ ने इण्डों अरेबियन मेंहदी बनाई और पारंपरिकता का निर्वाह करते हुए प्रियंका अग्रवाल ने मारवाड़ी मेंहदी बनाई। विद्यार्थियों ने बहुत ही सूक्ष्म और सुंदर तरीके से अपनी कलात्मक अभिव्यक्ति प्रस्तुत की। कार्यक्रम की अगली श्रृंखला में वाद-विवाद प्रतियोगिता का कार्यक्रम हुआ। तर्क के माध्यम से पक्ष-विपक्ष पर विचार करते हुए किसी निष्कर्ष पर पहुंचना, प्रस्तुतीकरण का बेहतर माध्यम है, जो विद्यार्थियों में आत्म विश्वास के साथ ही विषय की परख सूक्ष्मदृष्टि, दूरदर्शिता का परिचायक है। वाद-विवाद का विषय था

क्या भारत स्वच्छ हो रहा है : विद्यार्थियों में गुरूवाणी ने कहा कि, नेशनल फेस्टिवल में ही साफ-सफाई पर ध्यान दिया जाता है, आशीष कुमार ने कहा कि, हमें राजनैतिक मुद्दा नहीं बनाना है स्वच्छता हमारी नैतिक जिम्मेदारी है, भारती शर्मा ने कहा कि, प्रत्येक नागरिक स्वच्छता के लिए जिम्मेदार हैै। विद्यार्थियों ने इस प्रकार अपनी जिम्मेदारी देश के प्रति निभाते हुए अपने विचारों से परिचित कराया, जो काफी रोमांचक होने के साथ स्मरणीय रहेगा। अपने विचारों को व्यक्त कर विद्यार्थियों ने बहुमुखी प्रतिभा का परिचय दिया।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.