राष्ट्रीय

अरुण जेटली: नोटबंदी में पारदर्शिता बरतना बन सकता था धोखाधड़ी की बड़ी वजह

वाशिंगटन: केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने सरकार के नोटबंदी के फैसले को गोपनीय रखने का बचाव करते हुए कहा कि इसकी घोषणा में यदि पारदर्शिता बरती जाती तो यह धोखाधड़ी की बड़ी वजह बनता. अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष और विश्व बैंक की वार्षिक बैठक में शामिल होने के लिए अमेरिका की एक सप्ताह की यात्रा पर आए जेटली ने कहा कि नोटबंदी और माल एवं सेवाकर (जीएसटी) जैसे सुधारों ने भारतीय अर्थव्यवस्था को और अधिक मजबूत रास्ते पर ला दिया है.

न्यूयॉर्क में कोलंबिया विश्वविद्यालय के छात्रों को संबोधित करते हुए जेटली ने कहा, ‘‘यह संस्थागत सुधार हैं. यह ढांचागत बदलाव हैं और ये ढांचागत बदलाव मेरे हिसाब से भारतीय अर्थव्यवस्था को अधिक मजबूत रास्ते पर ले आए हैं. अब हम भविष्य में भारतीय अर्थव्यवस्था को अधिक साफ-सुथरी और बड़ी बनाने की ओर आगे बढ़ सकते हैं.’’ उन्होंने कहा कि नोटबंदी की पहले ही घोषणा कर देने से लोग अपने पास उपलब्ध नकदी से सोना, हीरा और जमीन खरीद सकते थे तथा विभिन्न तरह के लेनदेन कर सकते थे.

जेटली ने न्यूयॉर्क में कोलंबिया विश्वविद्यालय के छात्रों से कहा, ‘‘पारदर्शिता बहुत अच्छा शब्द है. लेकिन इस मामले (नोटबंदी) में पारदर्शिता को अपनाना धोखाधड़ी का बड़ा साधन बन सकता था.’’

वित्त मंत्री अरुण जेटली इस सवाल का जवाब दे रहे थे कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नोटबंदी की घोषणा करने से पहले कुछेक शीर्ष अधिकारियों के साथ तय इस योजना को गोपनीय क्यों रखा. जेटली ने कहा, ‘‘गोपनीयता निर्णय निर्माण की प्रक्रिया का मूल तत्व है.

उन्होंने कहा कि यह अब तक की सबसे बड़ी नोट बदलने की गतिविधि थी. इससे थोड़ी असुविधा हुई. टेलीविजन रिर्पोटर बैंकों के बाहर जाकर लाइनों में खड़े लोगों को उत्तेजित करते रहे, लेकिन लोग तब भी शांत बने रहे क्योंकि वह महसूस कर रहे थे कि यह एक अच्छा कदम है और इसलिए उन्होंने इसका समर्थन किया.

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि अर्थव्यवस्था को औपचारिक बनाने के लिए अनौपचारिक और कालेधन पर आधारित अर्थव्यवस्था के खिलाफ एक के बाद एक कई कदम उठाए गए. उन्होंने कहा, ‘‘इनमें से नोटबंदी और जीएसटी ऐसे ही कुछ कदम हैं. जीएसटी से मौजूदा स्टॉक को खत्म करने की प्रक्रिया के चलते एक तिमाही अथवा कुछ समय विनिर्माण क्षेत्र पर बदलाव की इस प्रक्रिया का असर हो सकता है.’’ वर्ष 1991 से शुरु हुए आर्थिक सुधारों के बारे में बात करते हुए जेटली ने कहा कि अब भारत का एक अपना मॉडल उभरता दिखाई दे रहा है. उन्होंने कहा कि सुधारों को लेकर भारत में एक आम सहमति है. सरकार लोगों को इस बात के लिए राजी करने में सफल रही है कि घरेलू निवेश पर्याप्त नहीं है.

Summary
Review Date
Reviewed Item
अरुण जेटली
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags
advt

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.