PRC पर सुलगा अरुणाचल प्रदेश,राज्य में तनाव,इंटरनेट सेवा ठप

हितधारतों के साथ बातचीत के बाद संयुक्त उच्च अधिकार समिति (जेएचपीसी) ने उन छह समुदायों को पीआरसी देने की सिफारिश की थी

ईटानगर।

स्थाई निवास प्रमाण पत्र (PRC)के मुद्दे पर अरुणाचल प्रदेश सुलग उठा है. कई आदिवासी संगठनों ने इस दौरान उपद्रव किया है. हितधारतों के साथ बातचीत के बाद संयुक्त उच्च अधिकार समिति (जेएचपीसी) ने उन छह समुदायों को पीआरसी देने की सिफारिश की थी। इस बंद के बाद राज्य में तनाव के हालात हैं और इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई है.

हितधारतों के साथ बातचीत के बाद संयुक्त उच्च अधिकार समिति (जेएचपीसी) ने उन छह समुदायों को पीआरसी देने की सिफारिश की थी. ईटानगर के कई हिस्सों में हिंसा हुई है. जो अरुणाचल प्रदेश के नागरिक नहीं थे लेकिन दशकों से नमसाई और चांगलांग जिलों में रह रहे थे.

इस बंद के बाद राज्य में तनाव के हालात हैं और इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई है.बंद के दौरान कई हिस्सों में हिंसा और आगजनी की घटनाएं भी हुईं. राजधानी ईटानगर में 18 छात्र संगठनों और सामाजिक संगठनों को इस बंद का समर्थन हासिल है.

इस प्रस्ताव से कई समुदाय आधारित समूहों और छात्रों के बीच असंतोष पैदा हो गया है, जिन्होंने दावा किया था कि अगर राज्य सरकार इसे स्वीकार करती है तो यह स्थानीय लोगों के अधिकारों और हितों से समझौता होगा.

एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि दो दिवसीय बंद के पहले दिन आंदोलनकारी राज्य की राजधानी में सड़कों पर उतरे और उन्होंने सरकारी वाहनों पर पथराव किया. पुलिस ने इनमें से 21 आंदोलनकारियों को हिरासत में लिया है.

Back to top button