राजनीति

अरविंद केजरीवाल से आज मिलेंगे कमल हासन, क्या दक्षिण की राजनीति में होगी ‘आप’ की एंट्री?

आम आदमी पार्टी के संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल आज (21 सितंबर) को चेन्नई में अभिनेता कमल हासन से मिलेंगे.

इस मुलाकात की खबर आने के बाद राजनीतिक गलियारे में चर्चाओं का दौर शुरू हो चुका है. चर्चा है कि कमल हासन जल्द ही राजनीतिक पारी खेलने उतर सकते हैं.

मुख्यमंत्री कार्यालय के एक अधिकारी ने केजरीवाल की कर्नाटक की यात्रा की पुष्टि की है. साथ ही कमल हासन के साथ उनकी मुलाकात की बात स्वीकारी है.

अटकलें हैं कि कमल हासन की अगर केजरीवाल से मुलाकात सफल होती है कि तो वे अपनी राजनीतिक पार्टी बनाने का फैसला बदल सकते हैं और दक्षिण की राजनीति में आम आदमी पार्टी के नेता बन सकते हैं.

इससे पहले 15 सितंबर को खबर आई थी कि कमल हासन सितंबर के अंत तक नई पार्टी बनाने का ऐलान कर सकते हैं.

सूत्रों के हवाले से मीडिया में खबर आई थी कि कमल हासन तमिलनाडु में इसी नवंबर में होने जा रहे स्‍थानीय चुनावों में वह अपने समर्थकों को उतार सकते हैं.

एक निजी मीडिया समूह से खास बातचीत में कमल हासन ने स्‍वीकार किया था कि वे अपनी पार्टी का गठन करना चाहते हैं.

62 वर्षीय सुपरस्‍टार ने कहा था, ‘हां, मैं इस दिशा में सोच रहा हूं लेकिन इच्‍छा से नहीं बल्कि मजबूरी में मुझे ऐसा सोचना पड़ रहा है.

आखिर इस वक्‍त कौन सी ऐसी मौजूदा पार्टी है जो राजनीति में मेरे सुधारवादी उद्देश्‍यों को पूरा करने के लक्ष्‍यों को पूरा करने के लिए प्‍लेटफॉर्म या विचारधारा प्रदान करती हो?’

 

कमल हसन ने एआईएडीएमके गुटों के विलय पर निशाना साधा

पिछले दिनो कमल हासन ने एआईएडीएमके के दोनों गुटों के विलय पर निशाना साधा था. हसन ने कहा कि यह लोगों को बेवकूफ बनाने जैसा है.

कमल हासन ने ट्वीट किया, ‘गांधी टोपी, कश्मीरी टोपी और अब जोकर टोपी. क्या यह सब आपके लिए पर्याप्त है या आप अभी भी कुछ और चाहते हैं.

तमिल लोग कृपया जवाब दें.’ कमल हासन की यह टिप्पणी दो एआईएडीएमके गुटों के विलय पर आई है.

इसमें एक गुट तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के. पलनीस्वामी व दूसरा पूर्व मुख्यमंत्री ओ. पन्नीरसेल्वम का है.

मालूम हो कि दक्षिण भारत में फिल्मी दुनिया के लोग राजनीति में हमेशा से सफल होते रहे हैं.

कमल हासन के अलावा सुपरस्टार रजनीकांत के भी राजनीति में आने की अटकलें आती रहती हैं. हालांकि वे लगातार इससे इनकार करते रहे हैं.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button