शाम 7 बजे होलिका दहन का श्रेष्ठ मुहूर्त

रायपुर : जगद्गुरु शहंकारचार्य आश्रम एवं भगवती राजराजेश्वरी मंदिर रायपुर के प्रमुख ब्रह्मचारी डॉ इंदुभावानंद महाराज ने बताया कि 1 मार्च 2018 की शाम को 6:58 मिनट के बाद होलिका दहन का श्रेष्ठ मुहूर्त है। आगे उन्होंने बताया कि 1 मार्च गुरुवार के दिन प्रातः काल 7:53 मिनट तक चतुर्दशी रहेगा तथा इसके पश्चात पूर्णिमा प्रारम्भ होगी।

जिस पूर्णिमा में सूर्योदय होता है उसे अनुदया पूर्णिमा कहते हैं। पूर्णिमा के साथ ही भद्रा प्रातः 7:53 मिनट को प्रारम्भ होगी जो शाम को 6:58 पर समाप्त होगी। शाम 6:58 मिनट के पश्चात होलिका दहन करने का श्रेष्ठ मुहूर्त है।

ब्रह्मचारी डॉ इंदुभवानंद ने आगे यह भी कहा कि होलिका दहन के पश्चात अग्नि की तीन परिक्रमा करना चाहिए साथ ही दूसरे दिन सर्वप्रथम होलिका के भस्म से तिलक लगाकर ही रंग और गुलाल से होली खेलना सर्वोत्तम माना गया है। उन्होंने शहंकारचार्य आश्रम की तरफ से प्रत्येक को होली की शुभकामनाएं प्रेषित किये हैं।

new jindal advt tree advt
Back to top button