जिला मेडिकल कॉलेज में डॉक्टरों की मनमानी चरम पर

जिला मेडिकल कॉलेज में डॉक्टरों की मनमानी चरम पर

राजनांदगांव । मेडिकल कॉलेज अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती मरीज अव्यवस्था का दंश झेल रहे हैं। गंभीर और सामान्य बीमारी से पीडि़त मरीजों का परीक्षण 30 घण्टों में एक बार ही हो पा रहा है ।
कुछ डॉक्टर मरीजों को हफ़्तों नहीं देखते ।

ये है मेडिकल कालेज का हाल : मेडिकल कॉलेज अस्पताल में दाखिल मरीजों के परिजनों का कहना है कि यहां बोर्ड में जिन डॉक्टर्स की ड्यूटी लिखी होती है वो डॉक्टर 24 घण्टों में खाली घूमने आते हैं। किसी भी मरीज की कोई भी जांच नहीं करते। केवल नर्स या सफाई कर्मचारी के भरोसे ही मरीजों को छोड़ दिया गया है। कोई मरीज सीरियस होता है तो भी डॉक्टर को कॉल करने पर समय रहते नहीं आते हैं। उन्हें जूनियर डॉक्टरों के भरोसे छोड़ देते हैं।

जब कोई मरीज का परिजन शिकायत करता है तो नर्सों की लापरवाही कहकर डॉक्टर लोग अपने को बचा लेते हैं। यह बात जिला मेडिकल कॉलेज में अब आम बात हो गई है। मेडिकल कॉलेज के डीन डॉ आर के सिंह का कहना है कि एक ही विभाग में पूरे डॉक्टर समय मौजूद रहते हैं ,इसलिए विजिट एक ही बार होती है । मरीजों की किसी प्रकार की तकलीफ उपलब्ध डॉक्टर दूर करने का प्रयास प्रत्येक विभाग में ड्यूटी डॉक्टर करते हैं।

मेडिकल कॉलेज अस्पताल की अव्यवस्था पर वर्सन : इस तरह की लापरवाही की शिकायत उपरांत पुष्टि होने पर संबंधित डॉक्टर पर कार्रवाई जरूर की जाएगी। मरीजों की ओर से डॉक्टर के नाम सहित शिकायत उचित माध्यम से की जानी चाहिए।

Back to top button