क्राइमछत्तीसगढ़

एमटी शाखा में बोगस बिल लगाकर फर्जी तरीके से 26 लाख रुपए निकालने की थी कोशिश

एफआईआर दर्ज कर मामले की जांच की जा रही

रायपुर: पिछले साल हुए दंतेवाड़ा उपचुनाव में दादा ट्रेवल्स की 17 बसें अधिग्रहण पर चुनाव खत्म होने के बाद ट्रेवल्स संचालक ने अतिरिक्त 15 बोगस बसों का फर्जी बिल लगा दिया. इस मामले में रक्षित केंद्र के उप निरीक्षक की शिकायत के बाद ट्रेवलर्स संचालक के खिलाफ राजधानी की पुलिस लाइन की एमटी शाखा में बोगस बिल लगाकर फर्जी तरीके से 26 लाख रुपए की धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया गया है.

कोतवाली थाना प्रभारी आरके पात्रे ने बताया कि रक्षित केंद्र के द्वारा विभागीय जांच करने के बाद धोखाधड़ी किए जाने का मामला उजागर हुआ. जिसके बाद शिकायत दर्ज कराई गई है, जिस पर धारा 34, 420, 467, 468, 471, 472 के तहत एफआईआर दर्ज कर मामले की जांच की जा रही है.

कोतवाली थाने में रक्षित केंद्र की ओर से की गई शिकायत में कहा गया है कि दंतेवाडा उप चुनाव में अन्य ट्रेवल कंपनियों के साथ-साथ दादा ब्रदर्स राजेश और अन्य के द्वारा राजनांदगांव का ट्रेवल कंपनी से 17 बसों का अधिग्रहण कर केन्द्रीय अर्धसैनिक बलों को उपलब्ध कराया गया था.

सील साइन युक्त ड्रायवर डायरी

अधिग्रहण के बाद वाहनों को वाहन शाखा प्रभारी की सील साइन युक्त ड्रायवर डायरी इश्यु किया गया. सफर के लिए POL इश्यु कर वाहन शाखा प्रभारी की सील लगाकर हस्ताक्षर किया गया. वाहन शाखा के रोजनामचा में इंट्री क्रमांक 41/10.09.2019 में इंट्री की गई है.

उप चुनाव संपन्न होने के बाद अन्य फर्मो की ड्रायवर डायरी के साथ दादा ब्रदर्स के राजेश एवं अन्य के द्वारा भी ड्रायवर डायरियां जमा की गई. बजट आंबटन प्राप्त होने पर ड्रायवर डायरियों के परीक्षण MTO उप निरीक्षक राजकुमार द्धिवेदी रायपुर के द्वारा जांच करने पर दादा ब्रदर्स के राजेश एवं अन्य के द्वारा उपरोक्त वाहनों की डायरियों के अतिरिक्त 15 उपरोक्त वाहनों की रोजनामचा डायरी मे कोई भी इंट्री जानबूझ दर्ज नहीं कराना पाया गया.

ड्रायवर डायरियां जमा की गई जिनमें वाहन शाखा प्रभारी की सील साइन नहीं है. ड्रायवर डायरी के अंदर के पन्नों पर वाहन शाखा प्रभारी रायपुर की सील फर्जी लगाकर POL प्राप्त किया गया, लेकिन वास्तव में वाहन शाखा रायपुर द्वारा POL इश्यु नहीं किया है और न ही रोजनामचा में रिपोर्ट दर्ज है. इसके आलावा सभी डायरियों में MTO जगदलपुर की सील लगाकर POL प्राप्त करना दर्शित है जो संभवत: फर्जी है.

इस तरह दादा ब्रदर्स राजेश एवं अन्य के द्वारा जानबूझ कर शासकीय पैसा आहरण करने के लिये फर्जी बिल तैयार कर कुल रकम 25 लाख 21 हजार 720 रुपए का बोगस बिल कूटरचित तैयार कर MTO कार्यालय रक्षित केन्द्र रायपुर में जमा करना पाया गया. साथ ही दादा ब्रदर्स के राजेश एवं अन्य निवासी राजनांदगांव के द्वारा शासकीय राशि गबन करने के उद्देश्य से कूटरचना कर वाहन शाखा रायपुर में 15 अतिरिक्त ड्रायवर डायरी जमा की गई.

Tags
Back to top button