जयपुर में स्वच्छ भारत मिशन की मशाल इस ऑटो ड्राइवर के हाथ

बता दें कि स्वच्छ भारत मिशन के तहत भारत सरकार द्वारा नियुक्त क्वॉलिटी काउंसिल ऑफ इंडिया के सर्वेक्षणकर्ता अगले महीने जयपुर आने वाले हैं

जयपुर में स्वच्छ भारत मिशन की मशाल इस ऑटो ड्राइवर के हाथ

जयपुर के मेयर अशोक लाहोटी ने एक अनोखा फैसला लेकर एक ऑटो ड्राइवर को स्वच्छ सर्वेक्षण का ब्रैंड ऐंबैसडर बनाया है। दरअसल, दीपक सिंह नाम के यह ड्राइवर अपने ऑटो में एक डस्ट-बिन रखते हैं और लोगों को साफ-सफाई रखने के लिए प्रेरित करते हैं। कई बार वह लोगों को पौधे भी बांटते हैं। सफाई और हरियाली बनाए रखने का संदेश देने के कारण लाहोटी ने सिंह को यह काम सौंपा है।
[responsivevoice_button voice=”Hindi Female” buttontext=”अगर आप पढ़ना नहीं
चाहते तो क्लिक करे और सुने”]

लाहोटी का कहना है कि पर्यावरण के लिए लोगों को संवेदनशील बनाने का जो काम सिंह कर रहे हैं वह तारीफ के लायक है। उनका मानना है कि सिंह को ऐंबैसडर बनाने से आम लोग भी उनकी तरह कदम उठाने के लिए प्रेरित होंगे। सिंह ने अपने ऑटो में स्वच्छ भारत का एक लोगो भी लगाया है। लाहोटी ने उन्हें सोमवार को एक तमगा दिया और लोगों में बांटने के लिए कुछ पर्चे भी दिए।

लाहोटी ने बताया कि सिंह ने उनके काम के बारे में बताया था। लाहोटी का कहना है कि वह साफ-सफाई को बढ़ावा देने वाले ऐसे ही और लोगों के काम को देखते हुए उन्हें भी ऐंबैसडर बनाएंगे।

बता दें कि स्वच्छ भारत मिशन के तहत भारत सरकार द्वारा नियुक्त क्वॉलिटी काउंसिल ऑफ इंडिया के सर्वेक्षणकर्ता अगले महीने जयपुर आने वाले हैं। ऐसे में जयपुर नगर पालिका किसी तरह की कोई कसर बाकी रखना नहीं चाहती। सर्वेक्षणकर्ता लोगों और निकायों द्वारा साफ-सफाई के लिए उठाए गए कदमों को देखेंगे।

स्वच्छ भारत मिशन के तहत सफाई से जुड़े 71 मानकों पर शहरों का मूल्यांकन होगा। साल 2017 में शहरों को 2000 अंकों में से इन पैमानों के आधार पर अंक दिए गए थे। अब 2018 से कुल अंक 2000 से बढ़ाकर 4000 कर दिए गए हैं। अब खुले में शौच मुक्त करने के लिए शौचालय निर्माण, सॉलिड वेस्ट का रख-रखाव और निवारण, लोगों में जागरुकता फैलाने, क्षमता बढ़ाने और इस दिशा में नए प्लान और आइडिया विकसित करने को भी अंक दिए जाएंगे।

advt
Back to top button