तंबाकू निषेध दिवस पर निकाली गयी जागरूकता रैली

आरा: विश्व तंबाकू निषेध दिवस पर आज जिला में जागरूकता रैली निकाली गयी। इस रैली सदर अस्पताल आरा से हरी झंडी दिखाई गयी, जिसमे सदर अस्पताल के डिप्टी सुपरिटेंडेंट, गैर संचारी रोग के नोडल, एएनएम एवं स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं ने शिरकत की तथा रैली की माध्यम से तम्बाकू सेवन के दुष्परिणामों के विषय में लोगों को जागरूक किया गया एवं “ तंबाकू से हृदय रोग होता है आज हीं छोड़िये ” जैसे स्लोगन के माध्यम से तम्बाकू सेवन से बचने कि हिदायत दी गयी.

इस अवसर पर जिला गैर संचारी रोग पदाधिकारी डा. प्रवीण सिन्हा ने कहा कि तम्बाकू सेवन से क़ैसर जैसे लाइलाज रोग होते हैं जो इंसान की जान ले लेते हैं। रैली के जरिये जन-जन तक ये संदेश पहुँचाना है कि तंबाकू और तंबाकू से बने हुये दूसरे नशीले पदार्थों से दूर रहना चाहिए साथ हीं सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में पोस्टर और बैनर के जरिये तंबाकू सेवन से होने वाले दुष्परिणामों के बारे में संदेश देने के लिए निर्देशित किया गया है सभी जगहो पर द्वारा तंबाकू छोड़ने का संदेश दिया जा रहा है कि तम्बाकू सेवन को दृढ आत्मविश्वास एवं संकल्प से छोड़ा जा सकता है.

Awareness rally on tobacco prohibition day
तंबाकू निषेध दिवस पर निकाली गयी जागरूकता रैली

इसके लिए आसपास से तम्बाकू की चीजें हटा दें एवं एक दिन तय कर उस दिन बिल्कुल भी तम्बाकू का सेवन ना करें. तम्बाकू छोड़ने के बाद शरीर के जहरीले व रासायनिक पदार्थो से मुक्त होने के अच्छे प्रभाव पर गौर करें एवं तम्बाकू सेवन का मन हो तब धीरे- धीरे घूंट लेकर पानी पीयें एवं गहरी साँस लें.

साथ ही सामान्य दिनचर्या बदल कर सुबह टहलने जाएं, तम्बाकू का तलब घटाने के लिए सौंप, मिश्री, लौंग या दालचीनी का प्रयोग करें, ऐसे दोस्तों के साथ रहें जो तम्बाकू सेवन से दूर रहने को प्रेरित करें एवं तम्बाकू सेवन न करने से होने वाली बचत को ध्यान कर अपने फैसले को मजबूत बनायें. इन प्रयासों से तम्बाकू सेवन की लत से बचा जा सकता है.

इस अवसर पर जिला सिविल सर्जन डा. ललितेस्वर प्रसाद झा बताया कि किशोरों में तम्बाकू सेवन करने की प्रवृति का बीते कुछ सालों में काफी वृद्धि हुयी है. उन्होने तम्बाकू सेवन से होने वाली समस्याओं के विषय में विस्तार से जानकारी देते हुये बताया कि तम्बाकू सेवन कैंसर का प्रमुख कारण है. इसके अलावा उच्च रक्तचाप, हृदय रोग, दाँतों की समस्या एवं साँस संबंधित जैसे विभिन्न रोग भी तम्बाकू सेवन से ही होते हैं. तम्बाकू सेवन से फेफड़े एवं मुँह के कैंसर की होने की संभावनाएं बहुत अधिक हो जाती है.

Awareness rally on tobacco prohibition day
तंबाकू निषेध दिवस पर निकाली गयी जागरूकता रैली

निष्क्रिय ध्रूमपान भी जानलेवा : सक्रिय ध्रूमपान की ही तरह निष्क्रिय ध्रूमपान भी स्वास्थ्य के लिए बहुत हानिकारक होता है. ध्रूमपान करने से फैलने वाले धुएं की चपेट में आने से भी खून का कैंसर, फेफड़े का कैंसर, पेट का कैंसर, आँतों का कैंसर एवं साईनस कैंसर हो सकता है.

कि टोबैको इंटरनेशनल इनीसीएटिव द्वारा प्रस्तुत किए आँकड़ों के अनुसार देश भर में लगभग 27.5 करोड़ लोग तम्बाकू का सेवन करते हैं जिसके कारण लगभग 9 लाख लोग प्रतिवर्ष कैंसर से ग्रसित होते हैं. साथ ही 13 से 15 वर्ष के 22 प्रतिशत बच्चे घर में होने वाले ध्रूमपान के धुएँ से एवं 13 से 15 वर्ष के 37 प्रतिशत बच्चे सार्वजनिक स्थानों पर फ़ैलने वाले धुओं से प्रभावित एवं बीमार हो रहे हैं.

Back to top button