बड़ी खबरराष्ट्रीय

बड़ी खबर..अयोध्या मामले में उच्चतम न्यायालय का ऐतिहासिक फैसला, विवादित जमीन पर बनेगा राम मंदिर

मुस्लिम पक्ष को मस्जिद के लिए 5 एकड़ जमीन अयोध्या में दी जाएगी

नई दिल्ली:  उच्चतम न्यायालय राजनीतिक दृष्टि से संवेदनशील राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद भूमि विवाद मामले में आज ऐतिहासिक फैसला सुना दिया है।

# विवादित जमीन पर राम मंदिर बनेगा और मस्जिद के लिए 5 एकड़ अलग जगह दी जाएगी।

# 3 महीनों में कमेटी बनाके मंदिर का निर्माण करवाएगी केंद्र सरकार।

# कोर्ट ने अपने फैसले में कहा है कि मुस्लिम पक्ष को वैकल्पिक जमीन दी जाए. कोर्ट ने मुस्लिमों को दूसरी जगह 5 एकड़ जमीन देने का आदेश दिया है.

# कोर्ट ने फैसले में कहा कि मुस्लिम पक्ष जमीन पर दावा साबित करने में नाकाम रहा है.

# कोर्ट ने फैसले में कहा कि आस्था के आधार पर जमीन का मालिकाना हक नहीं दिया जा सकता. साथ ही कोर्ट ने साफ कहा कि फैसला कानून के आधार पर ही दिया जाएगा.

# कोर्ट ने ASI रिपोर्ट के आधार पर अपने फैसले में कहा कि मंदिर तोड़कर मस्जिद बनाने की भी पुख्ता जानकारी नहीं है.

# अयोध्या पर चीफ जस्टिस रंजन गोगोई फैसला पढ़ रहे हैं. इस दौरान चीफ जस्टिस ने कहा कि 1949 में मूर्तियां रखी गईं.

# सुप्रीम कोर्ट ने निर्मोही अखाड़े का दावा खारिज कर दिया है. कोर्ट ने कहा कि अखाड़े का दावा लिमिटेशन से बाहर है.

# अयोध्या पर फैसला आने वाला है, जिससे पहले कोर्ट रूम खचाखच भरा है. सभी पक्षकार भी कोर्ट में मौजूद हैं.

# अयोध्या समेत पूरे उत्तर प्रदेश में धारा 144 लागू

# कोर्ट रूम में फैसले की कॉपी लाई गई, जिसके बाद फैसले की कॉपी पर सभी जजों ने दस्तखत किए.

# चीफ जस्टिस रंजन गोगोई सुप्रीम कोर्ट पहुंच गए हैं. कुछ देर बाद रंजन गोगोई कोर्ट रूम पहुंचेंगे, जहां 10.30 बजे के बाद अयोध्या केस का फैसला सुनाया जाएगा.

# अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट का सबसे बड़ा और अंतिम फैसला

# चीफ जस्टिस रंजन गोगोई सुप्रीम कोर्ट पहुंच गए हैं.

# फैसले सुनाने के लिए बेंच बेठ गई है और फैसले की कॉपी भी कोर्ट रूम पहुंच गई है.

# फैसले की कॉपी पर जजों ने किए दस्तखत

# कोर्ट रूम में सभी पक्षकार मौजूद
# CJI कोर्ट के बाहर वकीलों का जमावड़ा

प्रधान न्यायासधीश रंजन गोगोई, न्यायमूर्ति एस ए बोबडे, न्यायमूर्ति धनन्जय वाई चन्द्रचूड़, न्यायमूर्ति अशोक भूषण और न्यायमूर्ति एस अब्दुल नजीर की पांच सदस्यीय संविधान पीठ शनिवार की सुबह साढ़े दस बजे यह फैसला सुनायेगी।

संविधान पीठ ने 16 अक्ट्रबर को इस मामले की सुनवाई पूरी की थी। पीठ ने छह अगस्त से लगातार 40 दिन इस मामले में सुनवाई की।

Tags
Back to top button