राष्ट्रीय

अयोध्या – संतों के विरोध के चलते बदली गई आयोजन नमाज की जगह

अयोध्या : मुस्लिम राष्ट्रीय मंच द्वारा अयोध्या में सरयू तट पर आयोजित नमाज कार्यक्रम की जगह अंतिम समय में बदलनी पड़ गई। जानकारी के मुताबिक, यह फैसला हिंदू संतों और अन्य लोगों के विरोध के बाद लिया गया। इस मामले में पहले खबरें आईं थीं कि यह आयोजन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) द्वारा करवाया जा रहा है। बाद में आरएसएस ने इस मामले पर स्पष्टीकरण देते हुए ऐसी खबरों को अफवाह बताया था।

गौरतलब है कि 12 जुलाई को अयोध्या में एक नमाज कार्यक्रम आयोजित किया गया था। इस कार्यक्रम में यह प्रस्तावित था कि मुस्लिम समुदाय के लोग सरयू नदी में वजू करेंगे और वहीं तट पर नमाज पढ़ेंगे। यह कार्यक्रम मुस्लिम राष्ट्रीय मंच द्वारा आयोजित किया गया। यह संगठन आरएसएस से जुड़े स्वामी इंद्रेश का है।

राजू दास ने दी थी आत्मदाह की धमकी
हालांकि, सरयू तट पर इस कार्यक्रम के आयोजन को लेकर कुछ संतों और हनुमानगढ़ी के पुजारी राजू दास ने विरोध दर्ज कराया। राजू दास ने चेतावनी दी थी कि अगर ऐसा कार्यक्रम होता है तो वह आत्मदाह कर लेंगे। संतों के विरोध को देखते हुए कार्यक्रम को नौ गजी मजार पर स्थानांतरित कर दिया गया।

मुस्लिम राष्ट्रीय मंच की वरिष्ठ नेता और लखनऊ यूनिवर्सिटी के इस्लामिक स्टडीज की प्रफेसर शाबना आजमी ने बताया कि अयोध्या को इस बात के लिए बदनाम किया गया कि यहां पर मुस्लिमों को उनके धर्म के हिसाब से क्रियाकलाप करने का अधिकार नहीं है। इस कार्यक्रम के जरिए पूरी दुनिया में एक संदेश फैलाने का प्रयास किया जा रहा है कि अयोध्या हिंदू और मुसलमानों दोनों का है। कैबिनेट मंत्री लक्ष्मी नारायण कार्यक्रम के मुख्य अतिथि होंगे।

Tags
advt

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.