भारत की बैडमिंटन जोड़ी को करना पड़ा हार का सामना, सिल्वर से करना पड़ा संतोष

बीडब्ल्यूएफ वर्ल्ड टूर सुपर 750 फ्रेंच ओपन टूर्नामेंट के फाइनल में हार

पेरिस:दुनिया की नंबर एक जोड़ी, इंडोनेशिया की मार्कस गिडोइन और केविन संजय सुकामुल्यो ने बीडब्ल्यूएफ वर्ल्ड टूर सुपर 750 फ्रेंच ओपन टूर्नामेंट के फाइनल में भारत की बैडमिंटन जोड़ी सात्विकसाईराज रैंकीरेड्डी तथा चिराग शेट्टी को 21-18, 21-16 से हराया.

इंडोनेशिया की जोड़ी को इस जीत से गोल्ड मेडल हासिल हुआ वहीं चिराग और सात्विक को सिल्वर से संतोष करना पड़ा. दोनों जोड़ियों के बीच यह रोमांचक मुकाबला केवल आधे घंटे ही चला. दुनिया के 11 नंबर की जोड़ी चिराग और सात्विक ने कड़ी टक्कर दी, लेकिन वे इंडोनेशियाई जोड़ी के आगे टिक नहीं सके.

शुरुआत में भारतीय जोड़ी ने बढ़िया खेल दिखा कर उम्मीदें जगाईं लेकिन मार्कस और केविन के अनुभव और तेजी के आगे चिराग और सात्विक पिछड़ने लगे और पहला सेट 21-11 से गंवा दिया.

इस हार से सात्विक और चिराग ने फ्रेंच ओपन जीतने का दूसरी भारतीय जोड़ी बनने का मौका गंवा दिया. इससे पहले पार्थो गागुली और विक्रम सिंह ने 1983 में फ्रेंच ओपन जीता था. यह भारतीय जोड़ी मार्कस गिडोइन और केविन संजय सुकामुल्यो से अब तक हुए 7 मुकाबलों में से एक भी बार जीत हासिल नहीं कर सकी है.

रैंकीरेड्डी और शेट्टी ने शनिवार को एक रोमांचक सेमीफाइनल में पांचवीं सीड जापान के हिरोयूकी इंडो और युता वतानाबे की जोड़ी को सीधे गेमों में 21-11, 25-23 से पराजित किया था. उससे पहले रैंकीरेड्डी और शेट्टी ने क्वार्टर फाइनल में डेनमार्क के किम एस्टरूप और एंडर्स स्कारूप की जोड़ी को 21-13, 22-20 से मात दी थी. भारतीय जोड़ी ने इस साल अगस्त में अपना पहला सुपर 500 खिताब थाईलैंड ओपन का जीता था.

सिंधु-साइना क्वार्टरफाइनल में ही हो गई थीं बाहर

वहीं शुक्रवार को वर्ल्ड चैंपियन पीवी सिंधु ने दुनिया की नंबर एक खिलाड़ी ताई जू यिंग से क्वार्टर फाइनल मैच 2-16, 24-26 और 21-17 से हार का सामना पड़ा. उससे पहले साइना नेहवाल को भी क्वार्टर फाइनल में दक्षिण कोरिया की युवा खिलाड़ी आन सु यंग के हाथों 22-20, 23-21 से हार का सामना करना पड़ा था.

Back to top button