टेक्नोलॉजी

नये नाम से प्ले स्टोर में आये बैन चाइनीज़ एप, रहें सावधान

इस ऐप को चाइनीज़ मानने के पीछे वजह ये है कि क्वाइशो टेक्नोलॉजी चाइनीज़ कंपनी है .

चाइनीज़ ऐप टिकटॉक इंडिया में इतना फेमस एप रहा कि उसकी पॉपुलैरिटी छोटे शहरों और गांवो तक पहुंच गयी. टिकटॉक ने रातों रात लोगों को स्टार बना दिया. इसके अलावा चाइनीज़ पबजी गेम के पीछे भी लोग बहुत पागल हुये. गेमिंग के अलावा कई सारी चाइनीज़ शॉपिंग वेबसाइट और ई कॉमर्स की साइट का भी लोग काफी यूज करते थे. लेकिन सरकार ने कुछ समय पहले 117 चाइनीज़ वेबसाइट, गेमिंग एप और टिकटॉक जैसे सोशल मीडिया एप्स को बैन कर दिया है. हाल में इन बैन चाइनीज़ जैसे एक दो एप नये नाम से गूगल प्ले स्टोर पर मौजूद हैं और ये भी प्रतिबंधित एप्स की तरह फेमस हो रहे हैं और इनको काफी लोगों ने डाउनलोड किया है.

स्नैक वीडियो

टिकटॉक के बैन होने के बाद एक उसके जैसे फीचर्स वाला चाइनीज़ एप आजकल पॉपुलर हो रहा है जिसका नाम है स्नैक वीडियो. बताया जा रहा है इस एप हाल में करीब 10 करोड़ से ज्यादा लोगों ने डाउनलोड किया है. स्नैक वीडियो भी एक शॉर्ट वीडियो एप है जिसमें टिकटॉक जैसी एडिटिंग, लिप सिंकिंग और स्पेशल इफेक्ट वाले फीचर्स हैं. चाइनीज़ एप स्नैक वीडियो क्वाइशो टेक्नोलॉजी ने इसी साल लॉन्च किया है. इस ऐप को चाइनीज़ मानने के पीछे वजह ये है कि क्वाइशो टेक्नोलॉजी चाइनीज़ कंपनी है .

ओला पार्टी

दूसरा चाइनीज़ एप का नाम है ओला पार्टी. ये भी चाइनीज़ एप हैगो प्ले विद न्यू फ्रेंड्स की तरह है. हैगो एप में अनजान लोगों के साथ गेम खेले जा सकते हैं. चैट रूम बनाकर ऑडियो चैट की जा सकती है. इसी तरह ओला पार्टी एप में भी हैगो की तरह किसी के साथ गेम खेल सकते हैं और चैट रूम बनाकर चैट कर सकते हैं. ओला एप की खास बात ये है कि अगर आपका अकाउंट हैगो एप पर पहले से था तो आप उसी आईडी से ओला एप पर साइन-इन कर सकते हैं और इस नये एप पर हैगो एप की पूरी प्रोफाइल डिटेल्स आ जायेंगी.

नये एप्स के बारे में रहें एलर्ट

सरकार ने अब तक 117 पॉपुलर चाइनीज एप पर बैन लगा दिया है. ऐसे में कुछ नये चाइनीज एप एप्पल स्टोर या गूगल प्ले स्टोर यानी एंड्रॉइड पर नये नाम से आ गये हैं. लेकिन कोई भी नया एप डाउनलोड करने से पहले उसका ऑरिजिन पता कर लें क्योंकि ये बैन चाइनीज एप का ही कोई दूसरा वर्जन या उसके जैसा एप हो सकता है और सरकार की नजर में आने पर इन पर भी बैन लग सकता है.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button