राष्ट्रीय

जमात-ए-इस्लामी जम्मू कश्मीर पर प्रतिबंध लगाना मूल भावना के खिलाफ: पीडीपी

पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी ने केंद्र के फैसले की आलोचना की

श्रीनगर: पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) और नेशनल कांफ्रेंस की प्रमुख महबूबा मुफ्ती ने जमात-ए-इस्लामी जम्मू कश्मीर पर प्रतिबंध लगाने के फैसले को बाहुबल से निपटने की केंद्र सरकार की पहल का एक अन्य उदाहरण बताया. उन्होंने कहा कि क्या ‘बीजेपी विरोधी’ होना अब राष्ट्र-विरोध है.

पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) और नेशनल कांफ्रेंस ने जमात-ए-इस्लामी जम्मू कश्मीर पर प्रतिबंध लगाने के केंद्र के फैसले की शुक्रवार को आलोचना की और कहा कि यह लोकतंत्र की उस मूल भावना के खिलाफ है जो विरोधी राजनीतिक विचारों की अनुमति देता है.

अप्रैल, 2016 से जून, 2018 तक बीजेपी के साथ गठबंधन सरकार की अगुवाई कर चुकीं महबूबा ने लिखा, ”भारत सरकार जमात ए इस्लामी से इतनी असहज क्यों है? हाशिये के तत्वों का प्रतिनिधित्व करने वाले कट्टरपंथी हिंदू संगठनों को दुष्रचार करने और माहौल बिगाड़ने के लिए पूरी छूट दी जाती है.”

बीजेपी के पूर्व सहयेागी पीपुल्स कांफ्रेंस के अध्यक्ष सज्जाद गनी लोन ने कहा, ”लोकतंत्र की असली परीक्षा कुछ खास राजनीतिक रूझान वाले लोगों को सलाखों के पीछे डालने के बजाय विरोधी राजनीतिक विचारों एवं विचारधाराओं को अनुमति देने में है.”सलाहुद्दीन पाकिस्तान स्थित आतंकवादी संगठनों के गठबंधन यूनाइटेड जेहाद परिषद का अध्यक्ष भी है.

Tags
Back to top button