बांग्लादेश ने भारत-अमेरिका को किया नजरअंदाज

बांग्लादेश ने ढाका स्टॉक एक्सचेंज (DSE) का 25 फीसदी हिस्सा चीनी संघ (Chinese consortium) को बेचने का फैसला किया है. इस रेस भारत का नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) और अमेरिका का नैस्डेक भी शामिल था

बांग्लादेश ने ढाका स्टॉक एक्सचेंज (DSE) का 25 फीसदी हिस्सा चीनी संघ (Chinese consortium) को बेचने का फैसला किया है. इस रेस भारत का नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) और अमेरिका का नैस्डेक भी शामिल था, लेकिन बांग्लादेश ने इन्हें दरकिनार कर चीन को अपने प्रमुख शेयर मार्केट की हिस्सेदारी देने का फैसला किया है. बीडब्ल्यू न्यूज24 की खबर के मुताबिक बांग्लादश के प्रमुख बाजार के निदेशकों ने चीनी संघ के प्रस्ताव को स्वीकारते हुए उन्हें ढाका स्टॉक एक्सचेंज की बड़ी हिस्सेदारी देने का फैसला लिया है.

बताया जा रहा है कि डीएसई के प्रबंध निदेशक काम मजूदुर रहमान (KAM Majedur Rahman) ने बताया कि उन्होंने शेन्हान स्टॉक एक्सचेंज (Shenzhen Stock Exchange) और शंघाई स्टॉक एक्सचेंज (Shanghai Stock Exchange) के प्रमुखों के साथ एक बैठक में इस प्रस्ताव को अंतिम मंजूरी दे दी गई.

चीन के स्टॉक एक्सचेंज शेनजेन स्टॉक एक्सचेंज ने ढाका स्टॉक एक्सचेंज (डीएसई) में 25 फीसदी हिस्सेदारी खरीदने के लिए प्रति शेयर 22 टाका की कीमत देने की पेशकश की थी. चीन के एक्सचेंज की ओर से लगाई गई यह बोली एनएसई से ज्यादा थी. एनएसई ने डीएसई में हिस्सेदारी के लिए प्रति शेयर 15 टाका की बोली लगाई थी.

चीन की फाइनेंशियल फ्यूचर्स एक्सचेंज कंपनी, शंघाई स्टॉक एक्सचेंज, शेनजेन स्टॉक एक्सचेंज और दो लोकल वित्तीय संस्थानों ने पाकिस्तान स्टॉक एक्सचेंज में 40 फीसदी हिस्सेदारी खरीदी है. यह सौदा दिसंबर 2016 में हुआ था. देश में सभी स्टॉक एक्सचेंज में होने वाले कुल कारोबार में एनएसई की 80 फीसदी से ज्यादा हिस्सेदारी है. मौजूदा समय में ढाका स्टॉक एक्सचेंज की मार्केट कैपिटल 51.42 बिलियन अमेरिकी डॉलर है.

new jindal advt tree advt
Back to top button