बस्तर में भाजपा को झटका, सलीम रजा ने थामा कांग्रेस का दामन

-रायपुर में दिग्गज नेताओं की मौजूदगी में ग्रहण की कांग्रेस की सदस्यता

रायपुर/जगदलपुर।

प्रदेश भाजपा के मुख्यालय में पार्टी के दिग्गज नेता जब सालांत होने वाले विधानसभा चुनाव में मिशन 65 प्लस को सफल बनाने की रणनीति बनाने में जुटे हुए थे, उसी समय बस्तर से उन्हें एक बड़ा झटका मिला। जगदलपुर विधानसभा में मुस्लिम समुदाय में खासा रसूख रखने वाले समाज के सदर (अध्यक्ष) सलीम रजा ने पार्टी के स्थानीय नेताओं से नाराज होकर कांग्रेस का दामन थाम लिया।

विधानसभा चुनाव से ठीक पहले मुस्लिम समाज के प्रमुख का यह कदम निश्चित रूप से जगदलपुर भाजपा के लिए अच्छा संकेत नहीं माना जा सकता। कोयावंशी समाज के प्रमुख नेता व कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शंकर सिंह कोयावंशी के साथ रायपुर पहुंचे। सलीम रजा ने कांग्रेस भवन में पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष भूपेश बघेल, स्क्रीनिंग कमेटी के चेयरमेन भुवनेश्वर कालिता, अभियान समिति के अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत और वरिष्ठ नेता सत्यनारायण शर्मा के समक्ष कांग्रेस की सदस्यता हासिल की। इस अवसर पर शंकर सिंह कोयावंशी के अलावा बस्तर जिला कांग्रेस अध्यक्ष राजमन बेंजाम व शहर अध्यक्ष राजीव शर्मा भी मौजूद थे।

-बस्तर में भाजपा की हालत बेहद खराब: सलीम रजा

इस दौरान सदर सलीम रजा ने कहा कि बस्तर खासकर जगदलपुर में भाजपा की हालत बेहद खराब है। स्थानीय विधायक के अलावा भाजपा के अन्य नेताओं का व्यवहार बेहद खराब है। ये सभी अहंकार से भरे हुए हैं। जनमानस की दिक्कतों व तकलीफों से उनका कोई वास्ता नहीं है। सलीम रजा ने यह भी कहा कि पूरे बस्तर में नौकरशाही हावी है।

अफसर अपनी मर्जी के मालिक हैं और उसी के अनुरूप काम करते हैं। भाजपा के जनप्रतिनिधियों को उन पर कोई नियंत्रण नहीं है। उन्होंने कहा कि यह कहने में कोई संदेह नहीं है कि बस्तर में भाजपा का भविष्य बेहद खराब है। वहां के लोग आशा भरी नजरों से कांग्रेस की तरफ देख रहे हैं। कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी व प्रदेश अध्यक्ष भूपेश बघेल की कार्यशैली से प्रभावित होकर उन्होंने कांग्रेस में आने का फैसला किया है क्योंकि देश में कांग्रेस ही एकमात्र राजनीतिक दल है, जिसे गरीब, मजदूरों, किसानों, महिलाओं और अल्पसंख्यकों की चिंता है और वह उनके लिए काम करती है।

-संगठन होगा मजबूत

सलीम रजा को कांग्रेस में शामिल कराने में बड़ी भूमिका निभाने वाले पार्टी के वरिष्ठ नेता शंकर सिंह कोयावंशी का कहना है कि सलीम रजा के आने से संगठन मजबूत होगा। समाज में उनका खासा रसूख है और अन्य समाजों में भी उनका खासा प्रभाव है क्योंकि वे सामाजिक सरोकारों से जुड़े रहे हैं।

पार्टी के बस्तर जिला अध्यक्ष राजमन बेंजाम ने सलीम रजा का स्वागत करते हुए कहा कि उनके आने से समुदाय के बीच कांग्रेस का भरोसा प्रगाढ़ होगा। वे एक सामाजिक व्यक्ति है, जिनकी अच्छी छवि का फायदा कांग्रेस को मिलेगा। जगदलपुर कांग्रेस के शहर अध्यक्ष राजीव शर्मा ने कहा कि सलीम रजा का कांग्रेस प्रवेश यह साबित करता है कि जगदलपुरवासियों का भाजपा और उनके अहंकारी नेताओं से मोहभंग हो चुका है। कांग्रेस के लिए यह अच्छा संकेत है।

-15 हजार से अधिक मतदाता

जगदलपुर विधानसभा में मुस्लिम समाज की आबादी पचास हजार से अधिक है, जिसमें पंद्रह हजार से अधिक मतदाता है। सलाम रजा वर्ष 1994 से भाजपा से जुड़े रहे हैं। इस दौरान वे दुबारा समाज के सदर बने हैं। जगदलपुर में मुस्लिम समाज के सभी फिरकों में एक साथ मिलकर अपना नेता चुनने की परम्परा है।

विधिवत चुनाव होते हैं और उस प्रक्रिया के तहत ही सदर का निर्वाचन होता है। दो बार सदर निर्वाचित होना सलीम रजा का समाज में रसूख प्रमाणित करता है। उनका कांग्रेस में शामिल होना निश्चित रूप से जगदलपुर भाजपा के लिए अच्छा संकेत नहीं माना जा सकता है।

Tags
Back to top button