नक्सल हमले के बाद बस्तर की सीमाएं सील, फोर्स को फ्री हैंड

रायपुर। दंतेवाड़ा में नक्सल हमले के बाद बस्तर में सुरक्षा कड़ी कर दी गई है। दक्षिण बस्तर की सीमाएं सील की गई हैं और सीमा से सटे इलाकों में अन्य राज्यों की फोर्स के साथ संयुक्त गश्त की जा रही है। जंगल में आसमान से नजर रखी जा रही है। नक्सल प्रभावित जिलों में बुधवार को ही मतदान दलों को मतदान केंद्रों तक सुरक्षित पहुंचा दिया गया है। दंतेवाड़ा विधायक भीमा मंडावी को श्रद्धांजलि देने पहुंचे मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अफसरों को नक्सलियों से निपटने के लिए फ्री हैंड दे दिया है।

मुख्यमंत्री ने कहा है कि गोली का जवाब गोली से दिया जाए। दंतेवाड़ा में मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में सुरक्षा की समीक्षा की गई। इस बैठक में गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू, डीजीपी डीएम अवस्थी समेत पुलिस के आला अधिकारी मौजूद थे। बैठक में पोलिंग पार्टियों की सुरक्षित रवानगी और वापसी का प्लान तैयार किया गया है। संवेदनशील इलाकों में पोलिंग पार्टियों के जाने से पहले रोड की सर्चिंग की जाएगी।

हर मार्ग को सेनेटाइज करने के लिए बाद ही मतदान दलों को भेजा जा रहा है। पहले एक ही इलाके में भेजे जाने वाले दलों को अलग-अलग भेजा जा रहा था पर घटना के बाद एक इलाके के सभी दलों को एक साथ भारी सुरक्षा में भेजा गया। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी सुब्रत साहू ने कहा है कि नक्सल इलाकों में अतिरिक्त फोर्स का इंतजाम किया जा रहा है। रिजर्व फोर्स को भी अलर्ट किया गया है।

बम डिस्पोजल यूनिट से लेकर ड्रोन तक की मदद

दंतेवाड़ा समेत दक्षिण बस्तर के तीनों जिलों में बम डिस्पोजल यूनिटों को रास्तों पर तैनात किया गया है। स्निफर डॉग यूनिट भी तैनात हैं। चप्पे-चप्पे पर बारुद की तलाश की जा रही है। ड्रोन कैमरों से नक्सलियों की लोकेशन का पता लगाया जा रहा है। माइन प्रोटेक्टेड गाड़ियों की रवानगी से पहले भी बारुद तलाश किया जा रहा है। अन्य राज्यों से सटी सीमा पर आने-जाने वालों की सख्ती से तलाशी ली जा रही है।

रिव्यू कमेटी की बैठक

बस्तर में गुरुवार को वोट डाले जाएंगे। इससे पहले सुरक्षा की समीक्षा के लिए राजधानी में बैठक बुलाई गई है। यह बैठक नोडल अफसर और डीजीपी डीएम अवस्थी लेंगे। बस्तर की सीमा आंध्र, तेलंगाना, महाराष्ट्र और ओडिशा के नक्सल प्रभावित जिलों से सटी है। इन जगहों पर अतिरिक्त फोर्स तैनात की गई है। अन्य राज्यों की फोर्स से समन्वय बनाकर निगरानी की जा रही है।

Back to top button