एयर स्ट्राइक के मामले में बस्तर IG ने किया नक्सलियों के आरोपों का खंडन

CRPF ने बमबारी के दावों को बताया गलत

बीजापुर। माओवादियों पर एयर स्ट्राइक के मामले में बस्तर IG सुंदरराज पी ने माओवादियों के आरोपों का खंडन किया है, IG सुंदरराज पी ने कहा कि बौखलाहट में माओवादी बेबुनियाद आरोप लगा रहे हैं। हजारों निर्दोष ग्रामीणों की हत्या, निर्माण कार्य में लगे वाहनों और मशीनों को आगजनी किया, जनविरोधी और विकास का विरोध कर रहे है। माओवादी झूठी ताकत का प्रदर्शन कर रहे हैं। वहीं इस मामले को लेकर CRPF ने प्रेस नोट जारी किया है, प्रेस नोट में नक्सलियों के आरोप पर स्पष्टीकरण दिया गया है और नक्सलियों के दावों का गलत बताया है।

बस्तर रेंज पुलिस महानिरीक्षक, सुंदरराज पी. ने कहा कि दिनांक 20 अप्रैल 2021 को दण्डकारण्य स्पेशल जोनल कमेटी के प्रवक्ता विकल्प द्वारा जारी किए गए प्रेस विज्ञप्ति में सुरक्षा बल द्वारा माओवादियों के ऊपर ड्रोन के माध्यम से हवाई हमला करने का आरोप लगाया गया है। यह आरोप बिल्कुल बेबुनियाद है। विगत दिनों में अपना आधार क्षेत्र पैर के नीचे से खिसकने से सीपीआई माओवादी संगठन बौखलाहट में निर्दोष आदिवासी ग्रामीणों की हत्या करना, तोड़फोड़, आगजनी जैसे जनविरोधी एवं विकास विरोधी हरकत को अंजाम दे रहे हैं।

वास्तविकता यह है कि अब तक हजारों निर्दोष ग्रामीणों की हत्या, विकास कार्यों हेतु इस्तेमाल वाहन और मशीनों को जलाना जैसी कायराना हरकतों से अपनी झूठी ताकत का प्रदर्शन करने का असफल प्रयास करने वाला ये गैरकानूनी एवं अमानवीय माओवादी संगठन का खात्मा बहुत जल्दी होगा तथा बस्तर की जनता को माओवादियों के आतंक से बहुत जल्दी मुक्ति मिलेगी।

इसके पहले आज नक्सलियों ने बीजापुर में हेलीकाप्टर से बमबारी करने का आरोप लगाया है, नक्सलियों की स्पेशल ज़ोनल कमेटी के प्रवक्ता ने प्रेस नोट जारी किया। बीजापुर के पामेड़ इलाक़े में आसमान से बमबारी का आरोप लगाया है। नक्सलियों ने बम से हुए गड्डे व मलबों की तस्वीर भी जारी की है, नक्सलियों की पीएलजीए द्वारा जगह बदलकर बड़े ख़तरे को टालने की बात कही। 19 अप्रैल की सुबह ड्रोन और हेलिकॉप्टर से बमबारी का आरोप लगाया है।

बता दें कि बीते 3 अप्रैल को बीजापुर के तर्रेम में नक्सलियों ने हमला कर सुरक्षाबलों को बड़ा नुकसान पहुंचाया था। इस घटना में सुरक्षाबलों के 22 जवान शहीद हुए थे, वहीं 5 नक्सली मारे गए थे, इस दौरान नक्सलियों ने एक जवान को अगवा भी कर लिया था और पांच दिनों बाद मध्यस्थता के बाद जवान को जन अदालत लगाकर मध्यस्थों के हवाले कर दिया था।

इस घटना के बाद केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने अगले ही दिन दौरा किया था और बस्तर में ही कई जगहों पर मीटिंग लेकर नक्सलियों को चेतावनी देते हुए कहा था कि हम नक्सलियों से अब आर पार की लड़ाई करेंगे, जवानों का खून बर्बाद नहीं जाएगा। हम इसका बदला लेकर रहेंगे और इस लड़ाई को इसके प​रिणाम तक ले जाएंगे।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button