नक्सलियों से निपटेंगे बस्तरिया बटालियन के ब्लैक पैंथर

ग्रेहाउंड की तर्ज पर अब बीहड़ों में होगा एक्शन

रायपुर। नक्सल मामले की समीक्षा बैठक के बाद केन्द्रीय गृहमंत्री और मुख्यमंत्री डा.रमन सिंह ने मंत्रालय में प्रेसवार्ता में बताया कि ग्रेहाउंड की तर्ज पर छत्तीसगढ़ में ब्लैक पैथर के नाम से नई बटालियन का गठन किया गया है। जिसमें हर तरह के ताकत और गोपनीयता का भी ध्यान रख नक्सलियों से लड़ने में बड़ी कामयाबी मिलेगी। राजनाथ सिंह ने कहा कि चार बस्तरिया बटालियन तैयार किया गया है जो जल्द ही मैदान में आ जाएंगे। उन्होंने कहा कि नक्सलियों से लड़ाई में अहम भूमिका बस्तरिया बटालियन निभाएगी।
राजनाथ सिंह ने रविवार की घटना पर शोक जताते हुए कहा कि माओवादियों की शक्ति घटी है, जिससे आहत होकर नक्सली इस तरह कायराना हरकत कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि हमारे जवानों को सबसे ज्यादा नुक्सान आईईडी धमाकों से हुई है। नक्सलवाद पूरे देश में तेजी से सिमटते जा रहा है।

हारी हुई लड़ाई लड़ रही हैं नक्सली
केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने बस्तर बटालियन का जिक्र करते हुए कहा कि ये बटालियन नक्सलियों के खात्में के लिए सहायक साबित होगी। अच्छे विश्लेषकों का मानना है कि नक्सली हारी हुई लड़ाई लड़ रहे है। ये विकास विरोधी हैं और चाहते हैं कि इलाके के लोग सदैव गरीबी में ही गुजर—बसर करें। उन्होंने कहा कि नक्सली आदिवासियों का शोषण कर करोड़ों कमा रहे हैं। 35 पिछड़े जिलों के लिए अलग से प्रोजेक्ट बनाए जा रहे हैं, जिसके संबंध में कुछ ही समय पहले सपंन्न हुए मीटिंग में चर्चा की गई। नक्सलियों के फंड रिसोर्सेस को रोकने हर हथकंडे हम अपनाएंगे और सभी की अवैध सम्पत्तियों को भी जब्त किया जाएगा।

नक्सलियों के पास बाहर का पैसा
राजनाथ सिंह ने कहा कि छत्तीसगढ़ पुलिस एक आर्मी की ही तरह काम कर रही है। माओवादी नेता गरीबों को और गरीब करना चाहते हैं, जिससे उनके पॉवर में कमी न हो जाए। उन्होंने कहा कि नक्सलियों के पास बाहरी पैसा भी आ रहा है जिससे उनके घर वाले भी विदेश में पढ़ाई कर रहे हैं। छत्तीसगढ़ नक्सलियों के बारे में और भी कई पड़ताल फोर्स कर रहा है, जिससे उनकी संपत्ति को भी सरकार जब्त कर सके।

इस दौरान सीएम रमन सिंह, प्रदेश के गृह मंत्री राम सेवक पैकरा सहित नक्सल आॅपरेशन से जुड़े सभी अधिकारी मौजूद रहे।

new jindal advt tree advt
Back to top button