खेल

बीसीसीआई ने की टीएनपीएल के कुछ खिलाड़ियों की शिकायत पर जांच तेज

टी20 लीगों में गंभीर भ्रष्टाचार की है आशंका

नई दिल्ली: मैच फिक्सिंग और भ्रष्टाचार मामले में भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) ने तमिलनाडु की घरेलू लीग तमिलनाडु प्रीमियर लीग (TNPL) के कुछ खिलाड़ियों की शिकायत पर जांच तेज कर दी है.

बीसीसीआई की एंटी करप्शन यूनिट ने के प्रमुख के मुताबिक यह जांच कुछ खिलाड़ियों की ओर से आई शिकायतों के आधार पर की गई है जिसमें कहा गया है कि उन्हें अनजान लोगों से संदेश मिल रहे हैं.

भारत में टी20 लीग, खासतौर पर आईपीएल शुरू होने के बाद से मैच फिक्सिंग को लेकर सट्टेबाजों की सक्रियता बहुत बढ़ गई है. बीसीसीआई भी खिलाड़ियों को सख्त निर्देश देती रही है कि वे लोगों से मिलने जुलने में खास तौर पर सावधानी रखें जिससे कि वे मैच फिक्सिंग के मामलों के अनाजाने शिकार होने से बच सकें.

वहीं बीसीसीआई सख्ती के साथ बुकीज और मैच फिक्सर्स पर नजरें रखती है. इसके बावजूद पिछले कुछ सालों में तमिलनाडू प्रीमियर लीग में भ्रष्टाचार की खबरें आ रही हैं. इन्हीं के आधार पर एसीयू ने खिलाड़ी की शिकायत को बहुत गंभीरता से लिया है.

बीसीसीआई की एसीयू के प्रमुख अजीत सिंह ने कहा

बीसीसीआई की एसीयू के प्रमुख अजीत सिंह ने कहा, “कुछ खिलाड़ियों ने रिपोर्ट की थी कि उन्हें अनाजान लोगों से वॉट्सऐप संदेश मिल रहे हैं. हमने खिलाड़ियों के बयान ले लिए हैं और हमें संदेश भेजने वालों को ट्रैक करने की कोशिश कर रहे हैं”.

तमिलनाडु प्रीमियर लीग में एसीयू की हाल के दिनों की सक्रियता के मद्देनजर यह घटना बहुत ही अहम मानी जा रही है. वैसे एक बारगी देखने से ये घटनाएं अति असामान्य नहीं लगती हैं. लेकिन पिछले कुछ समय की घटनाओं ने एसीयू को यह मामला गंभीरता से लेने पर मजबूर कर दिया है.

मीडिया में आई खबरों के मुताबिक कुछ मैच फिक्सर तमिलनाडू प्रीमियर लीग का नियंत्रण पूरी तरह से अपने हाथ में लेने की तैयारी कर चुके हैं जिसमें टीम के मालिकों के साथ उनका संपर्क हैं. वे टीम का संचालन इस तरह से करने की तैयारी में हैं जिससे उन्हें सट्टेबाजी में बेतहाशा फायदा हो.

खबरों के मुताबिक जांचकर्ताओं को इस मामले की भनक तब लगी थी जब इसमें शामिल फिक्सरों के बीच पैसे को लेकर कथित विवाद हुआ. मामले की जांच हो ही रही थी कि खिलाड़ियों की रिपोर्ट ने इस मामले को तूल दे दिया.

Tags
Back to top button