B’day Scl : आज अपना 35वां जन्मदिन मना रहीं हैं श्रेया घोषाल

श्रेया घोषाल अब तक अलग-अलग भाषाओं में 1000 से भी ज्यादा गाने गा चुकी

मुंबई: आज मंगलवार को मशहूर सिंगर श्रेया घोषाल अपना 35वां जन्मदिन मना रहीं हैं. 35 वर्षीय श्रेया ने अभी तक 4 बार नेशनल अवॉर्ड जीत चुकी है साथ ही 6 फिल्म फेयर अवॉर्ड्स भी उन्होंने अपने नाम किए हैं. अवॉर्ड्स का ये सिलसिला तो बहुत लंबा है. आइये जाने उनके बारे में जुड़ी कुछ खास बातें

श्रेया घोषाल एक हिंदू- बंगाली परिवार ताल्लुक रखती हैं और उनका शुरुआती जीवन पश्चिम बंगाल में बीता है. हालांकि उन्होंने अपनी ज्यादातर पढ़ाई राजस्थान में पूरी की है. श्रेया घोषाल ने बेहद कम उम्र में ही संगीत सीखना शुरू कर दिया था. बताया जाता है कि मात्र 4 साल की उम्र से ही श्रेया म्यूजिक सीख रही हैं.

इतना ही नहीं मात्र 6 साल की उम्र में ही उन्होंने क्लासिकल म्यूजिक की ट्रेनिंग लेना शुरू कर दिया था. श्रेया घोषाल ने बेहद कम ही उम्र में सिंगिग जगत में अपना एक खास मुकाम बना लिया था. वहीं, अगर उनकी पहली एलबम की बात करें तो उन्होंने 14 साल की उम्र में अपनी पहली स्टूडियो एलबम रिकॉर्ड की थी. जिसमें एक या दो नहीं बल्कि 14 गाने थे. ये एक बंगाली एलबम थी.

बहुत कम लोग जानते हैं कि श्रेया घोषाल को मात्र 18 साल की उम्र में ही उनका पहला नेशनल अवॉर्ड मिल गया था. उन्हें ये अवॉर्ड साल 2002 में आई फिल्म ‘देवदास’ के लिए मिला था.

ऐसी है उनकी पर्सनल लाइफ

श्रेया घोषाल के पिता न्यूक्लियर पॉवर कॉपरेशन ऑफ इंडिया में काम किया करते थे. वहीं, इनकी मम्मी लिटरेचर में पोस्ट ग्रेजुएट हैं. श्रेया घोषाल की इस सफलता का सारा क्रेडिट उनके पेरेंट्स को जाता है.

जिन्होंने बेहद कम उम्र में उनकी आवाज के जादू को पहचाना और उन्हें संगीत की ट्रेनिंग दिलवाना शुरू कर दिया. इतना ही नहीं श्रेया घोषाल को प्रोत्साहित करने के लिए उनकी मम्मी उनके साथ तानपुरा भी बजाया करती थीं. श्रेया घोषाल ने साल 2015 में अपने बचपन के दोस्त शिलादित्य मुखोपाध्याय से शादी रचा ली. उन्होंने बंगाली रीति रिवाजों के अनुसार शादी की. बहुत कम लोग जानते हैं कि श्रेया ने शिलादित्य को करीब 10 साल तक डेट किया था.

कुछ मजेदार फैक्ट्स

श्रेया घोषाल ने एक या दो नहीं अब तक 12 भारतीय भाषाओं में गीत गाए हैं. इनमें हिंदी, बंगाली, असमी, कन्नड़ जैसी प्रमुख भाषाएं शामिल हैं.

श्रेया घोषाल एक ऐसी सिंगर हैं जिनकी आवाज एक या दो नहीं बल्कि पांच जॉनर्स में पसंद की जाती है. इसमें गजल, क्लासिकल , पॉप , फिल्म्स और भजन शामिल हैं.

श्रेया घोषाल को बॉलीवुड में सबसे पहला ब्रेक फिल्म निर्देशक संजय लीला भंसाली ने दिया था. श्रेया घोषाल ने सिंगिग रियालिटी शो ‘सा रे गा मा पा’ में हिस्सा लिया था जहां उनकी आवाज की खूबसूरती को संजय लीला भंसाली ने पहचाना और अपनी फिल्म ‘देवदास’ में गाने का मौका दिया. श्रेया ने भी संजय को निराश नहीं किया और उन्होंने अपने गाने ‘बैरी पिया’ के लिए पहला नेशनल अवॉर्ड जीता.

श्रेया घोषाल अब तक अलग-अलग भाषाओं में 1000 से भी ज्यादा गाने गा चुकी हैं.

साल 2013 में श्रेया घोषाल को संगीत जगत में दिए उनके अद्वितीय योगदान के लिए यूनाइटेड किंगडम (UK) ने House of Commons of the United Kingdom के सम्मान से नवाजा. ये लंदन में किसी भी भारतीय गायक को दिया गया अब तक सबसे बड़ा सम्मान है.

इतना ही नहीं लंदन में 26 जून को श्रेया घोषाल डे के रूप में मनाया जाता है.

श्रेया घोषालअपने गानों के चयन को लेकर बेहद स्ट्रिक्ट रहती हैं और वो किसी भी ऐसे गाने को चुनती जिसमें आपत्तिजनक या डबल मिनिंग लिरिक्स होते हैं.

Back to top button