मनोरंजन

b’day spl: अक्षय ने फिल्म सौगंध से शुरू किया था अपने फिल्मी करियर की शुरुआत

नब्बे के दशक में ऐसे हीरो मुख्य रूप से मसाला फिल्में करते थे

मुंबई: भारत में जन्मे नेचुरल कैनेडियन अभिनेता, निर्माता, मार्शल कलाकार और टेलीविजन व्यक्तित्व अक्षय कुमार का आज 53वां जन्मदिन है. अक्षय ने अपने फिल्मी करियर की शुरुआत बतौर एक्‍शन हीरो साल 1991 में सौगंध से शुरू किया था. उन्होंने मार्शल आर्ट भी सीख रखा था. उनकी कद-काठी और डांस भी कर लेते थे.

नब्बे के दशक में ऐसे हीरो मुख्य रूप से मसाला फिल्में करते थे. हालांकि अक्षय के समय में अजय देवगन, सलमान खान, सैफ अली खान, संजय दत्त, शाहरुख खान, आमिर खान, सुनील शेट्टी, यहां तक अमिताभ बच्चन सरीखे कई जबर्दस्त कलाकार उसी कैटेगरी में फिल्में बना रहे थे, इसलिए उन्हें जबरर्दस्त टक्कर मिल रही थी.

इस दौरान साल 2000 में करीबन 9 साल बाद अक्षय ने ट्रैक बदलकर कॉमेडी का रुख किया. अपने जबर्दस्त कॉमिक टाइमिंग के वजह से साल 2000 में आई ‘हेरा फेरी’ बहुत बड़ी हिट साबित हुई. अक्षय ने आजतक इस बीट को नहीं छोड़ा. वो हर साल एकाध कॉमेडी फिल्में करते ही हैं. साल 2007 में आई ‘वेलकम’ फिर हिट साबित हुई.

8 से 10 फिल्में फ्लॉप

लेकिन इस हिट के बाद और साल 2014 में आई लाइफचेंगिंग फिल्म ‘हॉलीडे’ के बीच के समय में अक्षय की एक फिल्म हिट होती थी तो चार फ्लॉप होती थी. उनकी फ्लॉप फिल्मों में ‘तीस मार खान’, ‘जोकर’, ‘एक्शन रीप्ले’, ‘8 इंटू 10 तस्वीर’, ‘कम्बख्त इश्क’, ‘बॉस’, ‘खिलाड़ी 786’, ‘ब्लू’, ‘पटियाला हाउस’ सरीखी‌ फिल्में थीं. इससे पहले नब्बे के दशक के मध्य में भी अक्षय कुमार की हालत बिगड़ी थी. उस वक्त उनकी लगातार 8 से 10 फिल्में फ्लॉप हो गई थीं.

इनके बारे में बात करते हुए अक्षय ने एक अवॉर्ड शो में कहा था, ‘एक समय ऐसा आया था जब मेरी 14 फिल्में फ्लॉप हुई थीं. इसके बाद मुझे लगा कि एक एक्टर के रूप में मेरा करियर खत्म होने लगा है’. उन्होंने आगे कहा- ‘मैंने 14 फ्लॉप फिल्मों से बहुत कुछ सीखा है. मैं उस वक्त हारा हुआ महसूस कर रहा था लेकिन उस वक्त मेरी मार्शयल आर्ट की ट्रेनिंग मेरे काम आई. ये ट्रेनिंग आपको अनुशासन में रहना सिखाती है’.

बताया कि ‘एक समय ऐसा आया था जब मेरी 14 फिल्में फ्लॉप हुई थीं. इसके बाद मुझे लगा कि एक एक्टर के रूप में मेरा करियर खत्म होने लगा है’. उन्होंने आगे कहा- ‘मैंने 14 फ्लॉप फिल्मों से बहुत कुछ सीखा है. मैं उस वक्त हारा हुआ महसूस कर रहा था लेकिन उस वक्त मेरी मार्शयल आर्ट की ट्रेनिंग मेरे काम आई. ये ट्रेनिंग आपको अनुशासन में रहना सिखाती है’.

लेकिन इन सबसे उबरते हुए अब अक्षय देशहित, सामाजिक संदेश और कॉमेडी का ऐसा गुलदस्ता लेकर लोगों के सामने आते हैं कि उन्हें पसंद किया ही जाता है.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button