खेल

B’day Spl: अंजुम ने अपनी काबिलियत के दम पर हासिल की काफी शोहरत

4 बार महिला वनडे वर्ल्ड कप और 2 बार महिला टी-20 वर्ल्ड कप में हिस्सा

नई दिल्ली: 9 साल की उम्र में क्रिकेट मैदान पर कदम रखने वाली महिला भारतीय क्रिकेटर अंजुम चोपड़ा का आज 43 वां जन्मदिन है. उसने इंटर कॉलेज स्तर पर कॉलेज की लड़कियों की टीम के साथ अपना पहला दोस्ताना मैच खेला, जिसमें 20 रन बनाए और 2 विकेट लिए.

उन्होंने जिंदगी में अपनी काबिलियत के दम पर काफी शोहरत हासिल की है. वो 4 बार महिला वनडे वर्ल्ड कप और 2 बार महिला टी-20 वर्ल्ड कप में हिस्सा ले चुकी है. 12 फरवरी 1995 को उन्होंने पहला वनडे मैच खेला था, इसके बाद उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा, उसी साल 17 नवंबर को उन्होंने पहला टेस्ट मैच भी खेला. साल 2000 के महिला वर्ल्ड कप में वो टीम इंडिया की उपकप्तान बनाई गईं थीं.

अंजुम ने 127 वनडे मैचों में 31.38 की औसत से 2,856 रन बनाए, इसके अलावा 12 टेस्ट मैच में 30.44 की औसत से 548 रन अपने नाम किए. उन्हें महज 18 टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने का मौका मिला जिसमें उन्होंने 17.21 की औसत से 241 रन अपने खाते में जोड़े. साल 2002 में वो पहली बार टीम इंडिया की कप्तान बनाई गईं थीं.

उनकी कप्तानी में महिला टीम ने पहली बार सरहद पार (दक्षिण अफ्रीका में) टेस्ट सीरीज में जीत हासिल की थी. साल 2005 के वनडे वर्ल्ड कप में टीम इंडिया फाइनल में पहुंची थी. इस टूर्नामेंट में अंजुम भारत की तरफ से टॉप स्कोरर थीं.

‘अर्जुन अवॉर्ड’

अंजुम को उनकी कामयाबी का बखूबी ईनाम भी मिला. साल 2007 में भारत सरकार की तरफ से उन्हें ‘अर्जुन अवॉर्ड’ दिया गया. इसके अलावा 2014 में उन्हें ‘पद्म श्री’ से सम्मानित किया गया. घरेलू क्रिकेट में वो ‘एयर इंडिया’ टीम की तरफ से खेलती थीं. मैदान में रन बनाने के अलावा वो कमेंट्री करना काफी पसंद करती थी.

बतौर टीवी प्रेजेंटर उन्होंने काफी नाम कमाया है. वो पेशेवर क्रिकेट से रिटायरमेंट के काफी पहले से ही टीवी स्टूडियो में दिखाई देती थीं. आज वो पूरी तरह टीवी कमेंटेटर बन चुकी हैं. साल 2017 में फिरोज शाह कोटला मैदान के गेट नंबर-3 और 4 को अंजुम चोपड़ा के नाम पर रख दिया था.

Tags
Back to top button