मनोरंजन

B’day Spl: जब माधुरी ने जब कहा कि श्रीदेवी वाला रोल क्या मुझे दे सकते हैं?

माधुरी दीक्षित भारतीय सिनेमा की सबसे लोकप्रिय अभिनेत्रियों में से एक

नई दिल्ली: भारतीय अभिनेत्री, निर्माता और टेलीविजन व्यक्तित्व माधुरी दीक्षित भारतीय सिनेमा की सबसे लोकप्रिय अभिनेत्रियों में से एक है. उन्होंने तीन दशक से अधिक के करियर में 70 से अधिक बॉलीवुड फिल्मों में काम किया है.

माधुरी दीक्षित का जन्म 15 मई 1965 को मुंबई में हुआ था. पिता शंकर दीक्षित और माता स्नेह लता दीक्षित की लाडली माधुरी को बचपन से डॉक्टर बनने की चाह थी, लेकिन वह अभिनेत्री बन गयी. आइये जाने बॉलीवुड की धकधक गर्ल माधुरी दीक्षित के बारे में कुछ जरुरी बातें:

श्रीदेवी की आकस्मिक मौत

पिछले साल करण जौहर की बड़े बजट वाली फिल्म बॉक्स ऑफिस पर बेशक ना चली हो, पर कई वजहों से चर्चा में जरूर रही. सबसे पहली वजह थी करण जौहर ने अपनी प्रिय हीरोइन श्रीदेवी को साइन किया था संजय दत्त के साथ एक इंपॉर्टटेंट रोल के लिए. लेकिन फिल्म की शूटिंग से ठीक पहले श्रीदेवी की आकस्मिक मौत हो गई.

करण जौहर पशोपेश में पड़ गए कि ये भूमिका अब कौन करेगा. इससे पहले कि वे किसी से संपर्क करते, उनके पास खुद चल कर धकधक गर्ल माधुरी दीक्षित का फोन आ गया. माधुरी ने जब कहा कि श्रीदेवी वाला रोल क्या मुझे दे सकते हैं? करण को तो जैसे मनमांगी मुराद मिल गई.

श्रीदेवी के कई अहसान

माधुरी मानती हैं कि उनके ऊपर श्रीदेवी के कई अहसान हैं. जिन दिनों माधुरी ने फिल्म इंडस्ट्री में कदम रखा था श्रीदेवी टॉप की हीरोइन थीं. माधुरी ने ‘तेजाब’ से पहले बतौर साइड हीरोइन एक-दो फिल्मों में काम किया था. बड़े निर्माता-निर्देशक उन्हें मराठी मुलगी कह कर खारिज कर देते. किसी को माधुरी के चेहरे से प्रॉब्लम थी तो किसी को उसके बोलने के तरीके से.

माधुरी धीरे-धीरे इंडस्ट्री में पांव जमाने की कोशिश कर रही थीं. उन्हीं दिनों उनके फेवरेट को स्टार अनिल कपूर की फिल्म लॉन्च हुई ‘बेटा’. खबर थी कि इसमें श्रीदेवी काम कर रही हैं. श्रीदेवी और अनिल कपूर कई हिट फिल्म दे चुके थे.

ऐन वक्त पर डेट्स की प्रॉब्लम की वजह से श्रीदेवी को यह फिल्म छोड़नी पड़ी. यह फिल्म तपाक से माधुरी को मिल गई. इस फिल्म में माधुरी का एक सेंसुअस गाना था ‘धकधक करने लगा…’ इस गाने ने माधुरी को एकाएक फेमस बना दिया.

‘बेटा’ की कामयाबी के बाद लगातार हिट फिल्में

‘बेटा’ की कामयाबी के बाद माधुरी ने लगातार हिट फिल्में दीं. नब्बे के दशक की शुरुआत में माधुरी को नंबर वन हीरोइन माना जाने लगा. लेकिन इसी वक्त लगातार उनकी फिल्में फ्लॉप होने लगीं. एक वक्त यह भी आया जब फिल्मी पंडितों ने माधुरी का करियर खत्म होने का प्रेडिक्शन कर डाला.

यश चोपड़ा चांदनी और लम्हे बनाने के बाद एक बार फिर निर्देशन में हाथ आजमाने जा रहे थे. उनके प्रोडक्शन से उनके बेटे आदित्य चोपड़ा की फिल्म ‘दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे’ सुपर डुपर हिट हो चुकी थी.

नई फिल्म ‘दिल तो पागल है’ के लिए वे शाहरुख खान के साथ एक सीनियर अभिनेत्री को लेना चाहते थे. वे इस रोल के लिए सबसे पहले श्रीदेवी के पास पहुंचे. श्रीदेवी को रोल पसंद भी आया. पर ऐन वक्त पर उन्होंने फिल्म में काम करने से इंकार कर दिया.

फिल्म फेयर अवार्ड समारोह

इससे पहले यश चोपड़ा ने माधुरी दीक्षित के साथ काम नहीं किया था. वे माधुरी से मिले और वो यह रोल करने को तैयार हो गईं. इस रोल के लिए माधुरी को सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का खिताब भी मिला. उस साल फिल्म फेयर अवार्ड समारोह में माधुरी ने सबके सामने कहा, मैं अभी खत्म नहीं हुई हूं. मुझे राइटऑफ करने वालों के ऊपर यह फिल्म एक थप्पड़ है.

माधुरी आज भी मानती हैं कि उनके करियर को मजबूती देने में परोक्ष रूप से श्रीदेवी का हाथ है. अगर वे यह दोनों फिल्में कर लेतीं तो जिस कामयाबी को उन्होंने छुआ है, कभी ना छू पाती.

Tags
Back to top button