मेष राशि वाले हो जांए सावधान, नहीं तो हो सकती है ये परेशानियां

18 अप्रैल को सुबह 7 बजकर 10 मिनट से बजे धनु राशि में वक्री हुए शनि

ज्योतिष के मुताबिक शनि जिसे सभी ग्रहों में सबसे ज्यादा ताकतवर माना जाता है। शनि की नजर बेहद महत्वपूर्ण है। समस्त ग्रहों में सबसे ज्यादा ताकतवर दृष्टि शनि की होती है. शनि की दृष्टि अलग-अलग ग्रहों पर पड़कर अलग-अलग दुष्परिणाम पैदा करती है।

शनि देव 18 अप्रैल 2018 से सुबह 7 बजकर 10 मिनट से बजे धनु राशि में वक्री हो चुके हैं,और 6 सितम्बर को 5 बजकर 2 मिनट से इस राशि से मार्गी होंगे.इस दौरान शनि वक्री की अवधि कुल 142 दिनों की होगी।


इसके अलावा मेष राशि में शनि का भाग्य स्थान में वक्री होना शुभ फलदायी नहीं माना जा रहा है। शनि के व्रकी होने से मेष राशि को कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ेगा। इसके साथ ही व्यवसाय और नौकरी में उनको बहुत ज्यादा मेहनत की जरुरत है। भाग्य का साथ आपको कम मिलेगा। आर्थिक स्थिति की बात करें तो यह समय अच्छा नहीं कहा जा सकता है. नुकसान उठाना पड़ सकता है। शत्रु आप पर हावी रहेंगे इसलिए इस अवधि में किसी से विवाद में ना उलझें।

Back to top button