अंतर्राष्ट्रीय

पहनावे की वजह से पहले महिला पत्रकार को संसद से किया बाहर, फिर मांगी माफी


ऑस्ट्रेलिया : सोमवार को राजधानी केनबेरा की संसद से ऑस्ट्रेलिया सरकार ने महिला पत्रकार पैट्रिशिया कारवेलस को संसद से बाहर निकाल दिया था। फिर बाद में ऑस्ट्रेलिया सरकार ने बाहर निकाले जाने की वजह से महिला पत्रकार से माफी मांगी है।

पत्रकार को उसके पहनावे की वजह से बाहर निकाला गया था। इस घटना ने प्रेस की स्वतंत्रता को लेकर विवाद खड़ा कर दिया था।

कारवेलस, ऑस्ट्रेलियन ब्रॉडकास्टिंग कॉरपोरेशन की प्रजेंटर हैं। उन्होंने कहा उन्हें संसद से सोमवार को इसलिए बाहर निकाल दिया गया क्योंकि कथित तौर पर उनका टॉप बहुत छोटा था जिसकी वजह से उनका शरीर दिख रहा था।

कारवेलस ने कहा, ‘परिचारक मेरे पास आई, वह बहुत विनम्र थी। उसने कहा कि वह अपने वरिष्ठ के आदेश का पालन कर रही है जिनका कहना है कि जो कपड़े मैंने पहने हैं उनसे बहुत ज्यादा बांह दिख रही है। मुझे शरीर को और ज्यादा ढंकने की जरूरत है।

मुझे एक जैकेट की आवश्यकता है।’ प्रजेंटर ने कहा कि मुझे लगा था कि मेरा पैंट और सूट ससंदीय मानकों के अनुसार था।

ऑस्ट्रेलियन संसद की वेबसाइट के अनुसार सदन में पोशाक का मानक व्यक्तिगत निर्णय का मसला है लेकिन आखिरी फैसला जिसे कि सभी मानते हैं वह स्पीकर का होता है।

कपड़ों में अच्छे ट्राउजर, जैकेट, पुरुषों और महिलाओं के लिए कॉलर और टाई होना चाहिए।

कारवेलस राष्ट्रीय प्रसारक के लिए रोजाना रेडियो शो होस्ट करती हैं।

उन्होंने ट्विटर पर अपनी उस ड्रेस की फोटो शेयर की जिसकी वजह से उन्हें बाहर निकाला गया था।

कारवेलस ने ट्विटर पर लिखा, ‘यह मेरा विवादित आउटफिट है।’ उनसे पहले पुरुष पत्रकारों को भी सूट न पहनने पर प्रेस गैलरी में घुसने से रोका जा चुका है।

हालांकि कारवेलस का मामला सामने आने के बाद सोशल मीडिया पर कई लोग उनका समर्थन कर रहे हैं।

ऑस्ट्रेलियाई संसद के सदन और गैलरी दोनों ही जगहों पर ड्रेस कोड का एक मानक तय है। जिसका पत्रकारों को पालन करना होता है।

Back to top button