पाकिस्तान से छिन सकता है अमेरिका के सहयोगी देश होने का दर्जा, सीनेट में बिल पेश

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अमेरिका यात्रा से पहले अमेरिका ने पाकिस्तान के खिलाफ अपना रुख सख्त कर लिया है। अमेरिकी संसद में पाकिस्तान के मेजर नॉन-नाटो एलाय स्टेटस के खिलाफ द्विपक्षीय बिल पेश किया गया है। यह बिल सीनेट में रिपब्लिक सांसद टेड पो और डेमोक्रेटिक सांसद रिक नोलन ने पेश किया है, जिसमें पाकिस्तान को दिए गया ‘मेजर नॉन-नाटो एलाय’ स्टेटस को रद्द करने की मांग की गई है।

उल्लेखनीय है कि पाकिस्तान को यह स्टेटस 2004 में तत्कालिन अमेरिकी राष्ट्रपति जॉर्ज बुश ने प्रदान किया था। बुश ने पाक को यह स्टेटस अल कायदा और तालिबान से अमेरिका को मुकाबला करने में मदद करने के लिए दिया था।

क्या है एमएनएनए?
मेजर नान नाटो एलाय अमेरिका की ओर से दिया जाने वाला स्पेशल स्टेटस है, जिसे अमेरिकी सरकार के साथ मिलकर काम करने वाले देश को दिया जाता है। इस स्टेटस वाले देश को अमेरिका से मिलिट्री और आर्थिक मदद मिलती हैं, जो अन्य गैर नाटो देश को नहीं दी जाती है।

पो ने कहा कि पाकिस्तान के हाथ अमेरिकियों के खून से रंगे हैं और इसके लिए उसे जवाब देना होगा। पाकिस्तान ने सालों तक अमेरिका की ओर से दिए गए अधिकारों का गलत लाभ उठाया है। ओसामा बिन लादेन को मारने से लेकर तालिबान के खिलाफ कार्रवाई करने तक पाकिस्तान ने हर मामले में मदद करने से भी अपने हाथ पीछे खीचें हैं।

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के इस रवैये के कारण आतंकवाद विरोधी विचारधारा को नुकसान पहुंचा है। हमें पाकिस्तान के साथ एक नई शुरुआत करनी होगी, लेकिन इससे पहले हमें उसे दी जाने वाली हथियारों की मदद को रोकना होगा।

Back to top button