अंतर्राष्ट्रीय

खूनी झड़प से पहले चीन ने गलवान में भेजे थे मार्शल आर्ट, माउंट वॉरफेयर फाइटर्स

भारतीय सेना ने भी सैनिक की संख्या बढ़ाई

चीन के स्टेट मीडिया की रिपोर्ट्स के मुताबिक भारतीय बॉर्डर पर हिंसक झड़प के पहले चीन ने वहां पर्वतारोहियों और मार्शल आर्ट फाइटर्स को तैनात किया था. मालूम हो कि भारत और चीन के बीच तनाव तो काफी समय से चल रहा था, लेकिन इस महीने उसने हिंसक रूप ले लिया और दोनों के बीच लगभग 50 वर्षों के बाद इतना बड़ी संख्या में जवान हताहत हुए.

सैंकड़ों नए सैनिकों की फुटेज भी दिखाई

चीनी सैना के आधिकारिक अखबार चीन नेशनल डिफेंस की रिपोर्ट्स के मुताबिक 15 जून को माउंट एवरेस्ट ओलंपिक टॉर्च रिले टीम के पूर्व सदस्यों और मिक्स्ड मार्शल आर्ट क्लब के फाइटर्स सहित पांच नई मिलिशिया डिवीजन ल्हासा पहुंची थीं. स्टेट ब्रॉडकास्टर CCTV ने तिब्बत की राजधानी में सैंकड़ों नए सैनिकों की फुटेज भी दिखाई थी.

तिब्बत के कमांडर वांग हाइजियांग ने कहा कि एनबो फाइट क्लब की भर्तियां सैनिकों की “संगठन और लामबंदी की ताकत” और उनकी “तेजी से प्रतिक्रिया और समर्थन क्षमता” को बढ़ाएगी. हालांकि “चीन नेशनल डिफेंस न्यूज ने बताया कि उन्होंने स्पष्ट रूप से इस बात की पुष्टि नहीं की कि उनकी तैनाती मौजूदा बॉर्डर तनाव से जुड़ी थी. उसके बाद उसी दिन भारतीय और चीनी सैनिक लद्दाख इलाके की सबसे भीषण मुठभेड़ में उलझ गए.

भारतीय सेना ने भी सैनिक की संख्या बढ़ाई

भारत ने बताया कि इस हिंसक झड़प में भारतीय सेना के 20 जवान शहीद हो गए, वहीं चीन ने उनकी तरफ से हताहत होने वाले सैनिकों के बारे में कोई जानकारी नहीं दी है. दोनों पक्ष इस हिंसक झड़प के लिए एक-दूसरे को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं. हालांकि उसके बाद से सैन्य और राजनयिक स्तर पर कई बार बातचीत हो चुकी है, लेकिन बॉर्डर पर तनाव कम होते नहीं दिखा है.

भारत ने गुरुवार को बताया कि हिमालय पर्वतीय क्षेत्र में चीन ने जितनी संख्या में बिल्ड अप किया है, उसकी बराबरी के लिए भारतीय सेना ने भी सैनिक की संख्या बढ़ाई है. वहीं चीनी मीडिया के मुताबिक हाल के हफ्तों में तिब्बत क्षेत्र में भारत की सीमा से लगे इलाकों के पास चीन की तरफ से एंटी एयरक्राफ्ट ड्रिल और अन्य सैन्य गतिविधियां देखी गई हैं.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button