हितग्राहियों को वेलनेस सेंटर का नहीं मिल पा रहा लाभ

- किसी भी सेंटर में पदस्थ नहीं किए गए हैं डॉक्टर्स

अंकित राजपूत

बिलासपुर।

आयुष्मान भारत के तहत जिले के छह स्वास्थ्य केंद्र को वेलनेस सेंटर में तब्दील किया गया है। दावा है कि इन्हें अपग्रेड कर सुविधाओं का विस्तार किया गया है। जबकि किसी भी सेंटर में डॉक्टर पदस्थ नहीं किया गया है। इस वजह से पात्र हितग्रहियों को योजना का लाभ नहीं मिल रहा है।

आयुष्मान भारत के तहत 15 अगस्त को जिले के मंझवानी, मिट्ठू नवागांव और चकरभाठा के उप स्वास्थ्य केंद्र और बंधवापारा, सीपत व सकरी के स्वास्थ्य केंद्र को वेलनेस सेंटर में तब्दील किया गया था। स्वास्थ्य विभाग का दावा है कि यहां पर बेहतर चिकित्सीय व्यवस्था के लिए सप्ताह के छह दिन डॉक्टर बैठेंगे।

साथ ही यहां पर पहुंचने वाले मरीजों को मुफ्त दवा मिलेगी। इसके अलावा सप्ताह में दो दिन वरिष्ठ डॉक्टर अपनी सेवाएं देंगे। साथ अलावा पांच बेड का वार्ड भी रहेगा। जबकि अब तक किसी भी वेलनेस सेंटर में डॉक्टर की नियुक्ति नहीं हो पाई है। यहां इलाज करने आने वाले मरीजों को निराश होकर लौटना पड़ता है।

वेलनेस सेंटर बना दिया गया है। धीरे-धीरे डॉक्टर की भर्ती की जा रही है। जल्द ही योजना के तहत सभी सुविधाएं मिलने लगेंगी।
-डॉ अविनाश खरे, नोडल अधिकारी, आयुष्मान भारत

-ये सुविधाएं देने का दावा

सप्ताह में छह दिन ओपीडी
सप्ताह में दो दिन वरिष्ठ विशेषज्ञ डॉक्टर देंगे सेवाएं
पांच बेड का वार्ड
सुरक्षित प्रसव की सुविधा
फोन में उपचार की सुविधा
प्रसव के लिए ओटी

Back to top button