छत्तीसगढ़

सौर सुजला योजना से हो रहा किसानो को लाभ

सोलर पम्प से हो रही है भरपूर सिंचाई और फसल लहलहा रही

रायपुर : छत्तीसगढ़ सरकार की सौर सुजला योजना से राज्य के बैकुण्ठपुर (कोरिया) जिले के ग्राम डोंगरिया निवासी साहेबराम और जशपुर जिले के ग्राम केंदापानी निवासी दिलबहार जैसे हजारों किसानों की तकदीर तेजी से बदल रही है। साहेबराम ने कभी अपने खेतों में सिंचाई करने की कल्पना नहीं की थी, क्योंकि उनके खेत तक बिजली की पहुंच नहीं थी।

सिंचाई नहीं कर पाने के कारण खेती वर्षा पर निर्भर थी। सौर सुजला योजना से अब उनके खेत में सोलर पम्प की स्थापना से भरपूर सिंचाई हो रही है और फसल लहलहा रही है। जशपुर जिले के दुलदुला विकासखंड के ग्राम केंदापानी में भी इस योजना के तहत सोलर पम्प स्थापना से दिलबहार सिंह के परिवार की पांच एकड़ जमीन में हरियाली खिलने लगी है।

साहेबराम सहित राज्य के 25 हजार किसानों को सौर सुजला योजना का लाभ मिला है। साहेबराम ने बताया कि पहले उन्होंने अपने खेत में बिजली कनेक्शन हेतु आवेदन दिया था, लेकिन ज्यादा लागत होने के कारण खेत तक बिजली लाइन नहीं पहुंच पायी, जब उन्हें सौर सुजला योजना की जानकारी मिली तो तुरंत आवेदन दिया। छत्तीसगढ़ अक्षय ऊर्जा विकास अभिकरण (क्रेडा) द्वारा उनके खेत में तीन हार्सपावर का सोलर पम्प स्थापित कर दिया गया।

उनकी तीन एकड़ बंजर भूमि को सिंचाई की सुविधा मिली। वे अब इस भूमि पर टमाटर, बैगन, मटर की खेती कर रहे हैं। दिलबहार सिंह की खेती पहाड़ी इलाके में है। इस वजह से उन्हें जीवनयापन के लिए वनोपज का संग्रहण और मजदूरी का कार्य भी करना पड़ता था। सौर सुजला योजना के तहत तीन एचपी का सोलर पम्प मिलने पर अब वे रबी फसलों की खेती भी अच्छी तरह से कर रहे हैं।

योजना के तहत राज्य सरकार द्वारा तीन हार्सपावर और पांच हार्सपावर क्षमता वाले सौर ऊर्जा संचालित सिंचाई पम्प किसानों को बेहद कम कीमत पर दिए जा रहे हैं। अगले साल 31 मार्च तक राज्य में लगभग 51 हजार किसानों को इस योजना में शामिल करने का लक्ष्य है। योजना के तहत साढ़े तीन लाख रूपए की लागत के तीन एचपी क्षमता वाले पम्प, अनुसूचित जाति-जनजाति के किसानों को सात हजार रूपए, अन्य पिछड़ा वर्ग के किसानों को बारह हजार और सामान्य वर्ग के किसानों को 18 हजार रूपए में उपलब्ध कराये जा रहे हैं।

इसके लिए तीन हजार रूपए प्रोसेसिंग शुल्क भी निर्धारित है। साढ़े चार लाख रूपए लागत के पांच हार्सपावर क्षमता वाले पम्प अनुसूचित जाति-जनजाति के किसानों को दस हजार रूपए, पिछड़ा वर्ग के किसानों को 15 हजार रूपए और सामान्य वर्ग के किसानों को 20 हजार रूपए में उपलब्ध कराये जा रहे हैं। इन पम्पों के लिए 4800 रूपए का प्रोसेसिंग शुल्क भी निर्धारित किया गया है।

Summary
Review Date
Reviewed Item
सौर सुजला योजना से हो रहा किसानो को लाभ
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags
advt

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.