केसर प्रेग्नेंसी में फायदेमंद होने के साथ, आपकी ब्यूटी भी है निखरता

इसको काफी महंगी फूड आइटम में शामिल किया जाता है लेकिन फायदे की जगह यह आपको नुकसान भी दे सकता है।

केसर का इस्तेमाल सर्दियों में किया जाता है क्योंकि इसकी तासीर गर्म होती है। यह सिर्फ खाने में अच्छी महक और स्वाद ही नहीं देता बल्कि सेहत और ब्यूटी से जुड़े कई फायदे भी देता हैं|

तभी इसको काफी महंगी फूड आइटम में शामिल किया जाता है लेकिन फायदे की जगह यह आपको नुकसान भी दे सकता है।

प्रेग्नेंसी में केसर खाने की हिदायत दी जाती है और कहते हैं कि इससे होने वाले बच्चे की रंगत निखरती है लेकिन इस बात का असलियत से कोई लेना देना नहीं है।

आइए हम आपको बताते हैं कि प्रेग्नेंसी में केसर खाने से शरीर को फायदा होता है या नुक्सान।

इससे आप बेहतर तरीके से जान पाएंगी कि आपको प्रेग्नेंसी में केसर का इस्तेमाल खाने में करना चाहिए या नहीं।

क्या प्रेग्नेंसी में केसर फायदेमंद है?

अगर आप केसर की सही मात्रा खाती हैं तो प्रेग्नेंसी में केसर फायदा पहुंचा सकता है।

वैसे भी किसी भी चीज का जरूरत से ज्यादा इस्तेमाल करना बुरा प्रभाव डालता है।

ठीक ऐसा केसर के साथ भी है इसलिए केसर का इस्तेमाल लिमिट में करना चाहिए।

केसर की कितनी मात्रा रहेगी ठीक?

प्रेग्नेंसी के दूसरे और तीसरे महीने में रोज 20-30 एमजी केसर का इस्तेमाल किया जा सकता है, क्योंकि इस दौरान अबॉशन का खतरा कम होता है।

एक ग्राम में आपको केसर के तकरीबन 400 रेशे मिलेंगे, ऐसे में 30 एमजी केसर रोज़ाना खाने से यह पूरे एक महीने तक चल सकता है।

इस बात का ध्यान रखें कि प्रेग्नेंसी के पहले महीनें में केसर का इस्तेमाल ना करें, वरना अबॉशन का खतरा बढ़ जाता है।

केसर के फायदे

अगर आप प्रेग्नेंसी में सही मात्रा और सही समय का ध्यान रखते हुए केसर का इस्तेमाल करती हैं, तो इसके कई चमत्कारी फायदे हो सकते हैं।

मूड स्विंग में फायदेमंद

प्रेग्नेंसी के दौरान हार्मोनल बदलाव होते हैं, जिस वजह से प्रेग्नेंट महिला को कई तरह के मूड स्विंग होते है।

कभी गुस्सा आना, चिड़चिड़ाहट होना, बिना किसी बात के रोने जैसा महसूस होना सामान्य है।

ऐसे में केसर का सेवन करने से अच्छा महसूस होता है। इसलिए अगर आप किसी भी तरह के तनाव को महसूस करें, तो केसर का इस्तेमाल जरूर करें।

हाई ब्लड प्रेशर से राहत

प्रेग्नेंट महिला को हाई ब्लड प्रेशर की परेशानी है, तो केसर का सेवन मददगार साबित हो सकता है।

केसर में पोटैशियम और क्रोसेटिन होता है, जो ब्लड प्रेशर को कम करने में मदद करता है।

मॉर्निंग सिकनेस से राहत

प्रेग्नेंसी में ज्यादातर महिलाओं को मॉर्निंग सिकनेस की परेशानी रहती है।

सुबह उठते समय जी-मचलाना, उल्टी आना, सुस्ती महसूस होने जैसी कई समस्याएं प्रेग्नेंसी में आम हैं।
ऐसे में केसर काफी मददगार साबित हो सकता है।

शरीर में आयरन की मात्रा बढ़ाए

प्रेग्नेंसी में ज्यादातर महिलाओं को एनीमिया की शिकायत रहती है।

इसलिए, प्रेग्नेंट महिला को आयरनयुक्त चीज़ों का सेवन करने की सलाह दी जाती है।

केसर में आयरन होता है, जो हिमोग्लोबिन बढ़ाने में मदद करता है।

केसर के फायदे बहुत है, लेकिन साथ-ही-साथ इसके नुक्सान भी है।

ज़रूरत से ज्यादा केसर का इस्तेमाल प्रेग्नेंट महिला के लिए नुकसानदायक हो सकता है।

अब हम आपको केसर के नुकसान के बारे में बताने जा रहे हैं :

अबॉशन का खतरा

प्रेग्नेंसी में केसर से बच्चेदानी पर प्रेशर पड़ने से अबॉशन का खतरा बढ़़ जाता है। केसर से शरीर का तापमान बढ़ता है|

जिससे अबॉशन भी हो सकता है। इसलिए केसर का इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरुर लें।

उल्टी आना

किसी-किसी महिला को केसर का सेवन करने के बाद घबराहट, जी-मिचलाना, मुंह सूखना व सिरदर्द जैसी समस्याएं होने लगती हैं।

कभी-कभी प्रेग्नेंसी में केसर का इस्तेमाल करने से उल्टी भी हो सकती है। अगर ऐसा हो, केसर का सेवन करना तुरंत बंद कर दे।

कई प्रेग्नेंट महिलाओं को केसर का ज्यादा सेवन करने से कई तरह की शारीरिक परेशानियां जैसे होंठ, नाक से खून निकलना, शरीर का सुन्न होना,

आंखो के आगे अंधेरा छा जाना, चक्कर आना, शरीर में पीलापन आना आदि होने लगती है इसलिए केसर का सेवन डॉक्टर की सलाह से ही करें।

Back to top button