भगवती राजराजेश्वरी का 13वां पाटोत्सव भक्ति भाव से मनाया

रायपुर: जगद्गुरु शंकराचार्य आश्रम रायपुर में स्थापित भगवती राजराजेश्वरी ललिता प्रेमाम्बा त्रिपुर सुंदरी का गंगा सप्तमी के दिन 13 वां पाटोत्सव शंकराचार्य आश्रम परिसर में भक्तों ने बड़े भक्तिमय परिवेश में मनाया। इस विशेष दिन पर शंकराचार्य आश्रम प्रमुख व छत्तीसगढ़ प्रभारी ब्रह्मचारी डॉ इंदुभवानंद के सान्निध्य में आचार्य धर्मेंद्र व आचार्य गौतम तिवारी के मंत्रोच्चारण के बीच एमएल पांडेय, तारिणी तिवारी, ज्ञानेश तिवारी, अनुराग अग्रवाल, ज्योति नायर, सुमिता नायक, रत्नेश शुक्ला, भूपेंद्र पांडेय, रेणुबाला ब्रह्मा, अनिल पवार, खिलावन साहू, नंदकुमार देवांगन, रजत तिवारी, योगेश चंद्र पांडेय व आदि भक्तों ने साथ मिलकर 1008 आम तथा किसमिस से भगवती राजराजेश्वरी का अर्चन किये तथा पुष्पांजलि अर्पित कर महाआरती किये।

इस अवसर पर ब्रह्मचारी डॉ इंदुभवानंद ने कहा कि रायपुर में स्थापित भगवती का विग्रह पूर्ण स्फटिक मणि से बनाया गया है जो विश्व का पहला विग्रह है। साथ ही उन्होंने सभी भक्तों एवं श्रद्धालुओं के उद्देश्य से कहा कि व्यसन मुक्त स्वस्थ समाज का निर्माण करें क्यों कि जितने भी अधर्म के कार्य होते हैं वे नशा आदि के कारण होते हैं तथा व्यक्ति के अपने इंद्रियों को वश में नहीं रख पाने के कारण होते हैं। आज पाटोत्सव के दिन ब्रह्मचारी डॉ इंदुभवानंद ने सभी से आग्रह किया कि आप आज के विशेष दिन और तिथि में संकल्प लें कि आप स्वस्थ समाज निर्माण हेतु तथा धर्म के मार्ग पर चलने हेतु अपनी सहभागिता प्रदान करेंगे तथा सांस्कारिक समाज का निर्माण करेंगे।

इसके पश्चात उन्होंने सभी भक्तों को प्रसाद ग्रहण करने हेतु आग्रह किया और वे स्वयं सभी भक्तों को बैठाकर भोजन करवाये और प्रसाद वितरित किये। उक्त जानकारी शंकराचार्य आश्रम एवं भगवती राजराजेश्वरी मंदिर के समन्वयक व प्रवक्ता पं रिद्धीपद ने विज्ञप्ति जारी कर दिए तथा यह भी उल्लेख किये की 24 अप्रैल को द्वारका पीठ के मंत्री दंडी स्वामी सदानंद सरस्वती शाम को रायपुर के शंकराचार्य आश्रम में विराजमान होंगे और भक्तों से मिलेंगे।

25 से 27 मई तक स्वामी जी अमरकंटक के प्रवास में रहेंगे तथा 27 शाम एवं 28 अप्रैल को पूरे दिन वे आश्रम में रहेंगे तथा 28 की शाम 5 बजे दुबे कॉलोनी मोवा स्थित बालाजी मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा में सम्मिलित होकर प्रवचन व आशीर्वचन प्रदान करेंगे। इस हेतु पं रिद्धीपद ने सभी भक्तों को उपस्थित रहने हेतु आग्रह किये।

Back to top button