भैरव अष्टमी 2018: इसलिए कहा जाता है काल भैरव, ऐसे हुई उत्पत्ति

इस पुराण में दर्ज है कई रोचक बातें

मार्गशीर्ष माह के कृष्ण पक्ष की अष्टमी के दिन भैरव अष्टमी या भैरव जयंती मनाई जाती है। माना जाता है कि इसी दिन भगवान शिव, भैरव के रूप में प्रकट हुए थे।

हिन्दू धर्म में मान्यता ये भी है कि भैरव का जन्म मां के गर्भ से नहीं हुआ था। बल्कि उन्हें अजन्मा माना जाता है।

आज 29 नवंबर को भैरव अष्टमी मनाई जाएगी। माना जाता है कि भगवान शिव ने अपनी प्रिय नगरी काशी की सुरक्षा का भार भैरव को ही सौंपा था।

इसलिए कहा जाता है काल भैरव

माना जाता है कि शिवजी के रक्त से भगवान भैरव की उत्पत्ती हुई थी। इसलिए उनको काल भैरव भी कहा जाता है।

भैरव अष्टमी के दिन कालभैरव का दर्शन-पूजन शुभ फले देने वाला होता है। इस दिन लोग भैरव के मंदिर में बाबा कालभैरव की पूजा करते हैं। साथ ही उन्हें सिंदूर, तेल, नारियल, पुए और जलेबी चढ़ाते हैं।

शिव के रूधिर से भैरव की हुई उत्पत्ति

माना जाता है कि भैरव बाबा की उत्पत्ति शिव के क्रोध से हुई थी। शिव के रूधिर के दो भाग हुए। पहला बटुक भैरव और दूसरा काल भैरव। इन दोनों ही भैरवों की पूजा, हिन्दू धर्म में की जाती है।

पुराणों की मानें तो भगवान भैरव को असितांग, रुद्र, चंड, क्रोध, उन्मत्त, कपाली, भीषण और संहार नाम से भी जाना जाता है।

माना ये भी जाता है कि भगवान शिव के पांचवें अवतार भैरव को भैरवनाथ बोलते हैं। भैरव अष्टमी के दिन भैरव बाबा की विशेष पूजा का महत्व है।

कई समाज के हैं कुल देवता

भगवान भैरव को भैरू महाराज, भैरू बाबा, मामा भैरव जैसे नामों से भी बुलाया जाता है। कई समाजों के ये कुल देवता भी कहे जाते हैं।

इनको पूजने का तरीका भी अलग-अलग है। इन्हें काशी का संरक्षक भी कहा जाता है।

कलिका पुराण में है दर्ज

काल भैरव भक्त की हर मनोकामना पूरी करते हैं। उन्हें मनचाहा वर देते हैं। भगवान शिव की सेना में 11 रुद्र, 11 रुद्रिणियां, चौंसठ योगिनियां, अनगिनत मातृकाएं और 108 भैरव हैं।

कलिका पुराण में बताया गया है कि बालक गणेश ने सिर कटने से पहले इन्हीं से युद्ध किया था इसीलिए भोलेनाथ इन्हें वीरभद्र के नाम से पुकारते हैं।

देश भर में काल भैरव के कई प्रसिद्ध मंदिर हैं। सबसे प्राचीन और चमत्कारिक मंदिर है उज्जैन और काशी में।

काल भैरव मंदिर उज्जैन में और बटुक भैरव का मंदिर लखनऊ है जहां हर भैरव अष्टमी के दिन भक्तों का जमावड़ा लगा होता है।

1
Back to top button