धर्म/अध्यात्म

भगवान शिव का वो मंदिर जिसे ‘भूतों’ ने एक रात में बनाया

भारत में आपने कई प्राचीन और अनोखे मंदिर देखे होंगे और उनसे जुड़ी कोई न कोई कहानी भी सुनी होगी। यह मंदिर लोग शांति पाने के लिए बनाते हैं, लेकिन क्या कभी आपने सुना है कि भूतों ने किसी मंदिर का निर्माण किया। किसी मंदिर के निर्माण का श्रेय भूतों को जाता है। ऐसा एक मंदिर है उत्तर प्रदेश के मेरठ में।

सिम्भावली के दातियाना गांव में एक प्राचीन शिव मंदिर है, यहां के लोगों का मानना है कि यह मंदिर भूतों का बनाया हुआ है। स्थानिय लोग इसे ‘भूतों वाला मंदिर’ के नाम से जानते हैं। लोगों का मानना है कि इस मंदिर को भूतों ने एक रात में बनाया था।

लाल रंग की ईंटों से बने इस मंदिर में सिमेंट का इस्तेमाल नहीं किया गया है। लोगों का कहना है कि ये मंदिर हजारों साल पुराना है, लेकिन आज तक वैसा का वैसा की खड़ा है। कितनी ही प्राकृतिक आपदाएं आई और गई, लेकिन मंदिर वहीं का वहीं है।

इतने सालों में केवल मंदिर के शिखर को नुकसान पहुंचा है। बताया जाता है कि मंदिर के शिखर का निर्माण बाद में हुआ, जिसे सिमेंट से बनाया गया है। गांव के लोगों का कहना है कि शिखर को भूतों ने नहीं बनाया है।

मंदिर के पुजारी राकेश कुमार गोस्वामी ने बताया कि इस मंदिर को भूतों ने एक रात में बनाया था। आप देख सकते हैं कि पूरे मंदिर को लाल पत्थरों से बनाया गया है। मंदिर पूरा होने से पहले ही सुरज निकल आया, जिस वजह से शिखर नहीं बन पाया। बाद में गांव के लोगों ने मिलकर मंदिर का शिखर बनवाया।

उन्होंने बताया कि 1980 में मंदिर का शिखर क्रैक हो गया था, लेकिन मंदिर को कुछ भी नहीं हुआ। गांव के लोगों का मानना है कि यह मंदिर उनकी रक्षा करता है। हालांकि इतिहासकारों ने भूतों की बात को महज अफवाह बताया और कहा कि इस मंदिर का निर्माण गुप्त काल के दौरान हुआ है।

Summary
Review Date
Reviewed Item
मंदिर
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *