मध्यप्रदेश

Bhopal Airport: हवाई सफर पर कोरोना का असर, भोपाल से कोलकाता तक अपेक्षित यात्री नहीं

कुछ उड़ानें बंद होने की चर्चा शुरू हो गई है।

Bhopal Airport भोपाल। कोरोना संकट एयरलाइंस कंपनियों के लिए अभी तक मुसीबत बना हुआ है। यात्रियों की कम संख्या के कारण भोपाल से जहां नई उड़ानें शुरू नहीं हो पा रही हैं, वहीं कुछ उड़ानें बंद होने की चर्चा शुरू हो गई है।

भोपाल से कोलकाता तक डायरेक्ट उड़ान की मांग लंबे समय से की जा रही थी। इंडिगो ने हाल ही में इस रूट पर उड़ान शुरू कर यात्रियों की मांग पूरी कर दी। कंपनी इस रूट पर एयर बस 320 स्तर का विमान चला रही है। इस विमान में 180 सीटें होती हैं, लेकिन कंपनी की आधी सीटें भी बुक नहीं हो रही हैं।

कई बार तो भोपाल से जाने वाले यात्रियों की संख्या 40 से 50 ही होती है। यही हाल रहा तो कंपनी उड़ान को बंद कर सकती है। यह उड़ान सप्ताह में चार दिन सोमवार, बुधवार, शुक्रवार एवं रविवार को संचालित होती है।

किराया कम फिर भी उम्मीद से कम यात्री

इस उड़ान में भोपाल से कोलकाता तक 3500 से 4000 रुपये तक किराया लिया जा रहा है। दूरी के लिहाज से यह किराया कम माना जाता है। इसके बावजूद कंपनी को अपेक्षित यात्री नहीं मिल पा रहे हैं। आमतौर पर दुर्गा पूजा के समय बड़ी संख्या में बंगाली समाज के लोग कोलकाता जाते हैं। इस बार शारदीय नवरात्र 17 अक्टूबर से शुरू हो रहे हैं, लेकिन यात्रियों में उत्साह नजर नहीं आ रहा है। 16 अक्टूबर को भोपाल से कोलकाता तक 3983 रुपये में सीट बुक हो रही है। माना जा रहा है कि कोरोना के डर की वजह से ही अपेक्षित यात्री नहीं मिल रहे हैं।

गरबा नहीं, अहमदाबाद उड़ान भी नहीं

भोपाल से बड़ी संख्या में लोग गुजराती गरबा महोत्सव में शामिल होने अहमदाबाद जाते हैं। इस बार शारदीय नवरात्र के दौरान गरबा महोत्सव नहीं हो रहे हैं। भोपाल से अहमदाबाद उड़ान भी अभी तक शुरू नहीं हो सकी है। पिछले साल स्पाइस जेट की उड़ान की उड़ान से बड़ी संख्या में लोगों ने अहमदाबाद का सफर किया था। इंडिगो ने इस रूट पर शेड्यूल जारी करने के बावजूद अभी तक उड़ान शुरू नहीं की है।

कोरोना संक्रमण का डर है वजह

भोपाल से कोलकाता तक डायरेक्ट उड़ान शुरू होने से हमारी मांग पूरी हो गई है। सुविधा भी हो गई है लेकिन कोरोना का डर खत्म नहीं हुआ है इसलिए दुर्गा पूजा में शामिल होने नहीं जाएंगे। वैक्सीन आने के बाद यात्रियों की संख्या बढ़ेगी।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button