छत्तीसगढ़

भूपेश ने कहा-सीएम का फैसला राष्ट्रीय नेतृत्व तय करेगा, सिंहदेव हुए मौन

हमारी पार्टी में सीएम पद का कोई भी पहले से दावेदार या उम्मीदवार नहीं होता

बिलासपुर। सरगुजा रियासत के महाराज और विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव के सामने रविवार को उस वक्त स्थिति असहज बन गई, जब भूपेश ने उनकी बात काट दी। मामला कांग्रेस भीतर का है। जहां टीएस सिंहदेव लगातार स्वयं को पार्टी के सीएम फेस बनाने पर बयान पर बयान दिए जा रहे हैं तो महंत और भूपेश इसे तूल देने से रोकने में लगे हुए हैं।

रविवार को एक अनौपचारिक प्रेस कॉन्फ्रेंस में टीएस सिंहदेव जैसे ही बोलने लगे कि मैं तो सीएम पद के लिए बीते एक साल से दावेदारी कर रहा हूं, सिंहदेव इतना ही कह पाए थे कि भूपेश ने बात को उनके मुंह से छीनते हुए कहा हमारी पार्टी में सीएम पद का कोई भी पहले से दावेदार या उम्मीदवार नहीं होता। जो भी होगा पार्टी का राष्ट्रीय नेतृत्व तय करेगा। इसके बाद सिंहदेव मौन हो गए।

0-कांग्रेस में मचा है घमासान

बीते एक सप्ताह से पार्टी की बाकी गतिविधियों से हटकर पूरी चर्चा इन दिनों इस पर है कि कांग्रेस से मुख्यमंत्री का फेस कौन होगा। इस चर्चा को सरगुजा के महाराजा टीएस सिंहदेव ने अपने आपको दावेदार बताकर और गर्म कर दिया। इसके ठीक बात महंत ने दावेदारी को डायल्यूट करते हुए खुद को भी दावेदार बता डाला। साथ ही पूर्व नेता प्रतिपक्ष रविंद्र चौबे, वरिष्ठ कांग्रेसी नेता सत्यनारायण शर्मा को भी सीएम पद के योग्य बताते हुए दावेदार बता दिया। इसी बीच भूपेश बघेल खुद को संगठन का आदमी के रूप में पेश करने में लगे हैं। लेकिन रविवार को उन्होंने सिंहदेव की बात को पूरी तरह से खारिज कर दिया।

0-सियाराम बोले, अपनी सीट तो जीत लें पहले :

कांग्रेस के भीतर सीेएम के फेस को लेकर चल रही चर्चा की बीच कांग्रेस विधायक सियाराम कौशिक भी कूद पड़े हैं। उन्होंने कहा कि पार्टी की यह तिकड़ी अपने-अपने निर्वाचन क्षेत्रों से जीत नहीं पा रही, बाकी की तो बात छोड़िए। एक की सीट का अतापता नहीं, दूसरे राजा साहब हैं, तीसरे सिर्फ बोलते हैं।

सूत न कपास, जुलाहों में लठ्ठमल :

भाजपा जिला अध्यक्ष रजनीश सिंह ने कहा कि यह तो वैसे ही है जैसे सूत न कपास जुलाहों में लठ्ठमलठ्ठा। 2018 का चुनाव भी भाजपा ही जीतने जा रही है। ये लोग चुनाव तो लड़ते नहीं सीएम कौन होगा इस पर लड़ रहे हैं।

अमित बोल-मुंगेरीलाल के सपने देखने से किसे रोका जा सकता है :

छजकां के अमित जोगी ने कहा कि यह मुंगेरीलाल के सपने हैं। प्रदेश में मुकाबला ही छजकां और भाजपा के बीच है तो कांग्रेस से सीएम कौन बनेगा यह काल्पनिक बात है।

अंदर की बात

मामला प्रदेश की शीर्ष तिकड़ी भूपेश, महंत, सिंहदेव की मेहनत और नतीजों का है। चूंकि टीएस अरसे से खुद को परोक्ष रूप से सीएम का फेस बता रहे हैं, तो अब वे खुलकर ही बोलने लगे। वैसे तो कोई बात नहीं, मगर कार्यकर्ताओ में यह संदेश गहरे न बैठ जाए इसलिए राजनीति के चतुर सुजान महंत ने चुटकी लेते हुए रविंद्र चौबे, सत्यनारायण शर्मा को भी दावेदार बता दिया। भूपेश मौन होकर मुखर हुए। राष्ट्रीय सचिव चंदन भी प्रदेश में हैं। वे राहुल के करीबी हैं। कहीं बात-बात में फैसले का तराजू सिंहदेव की ओर वर्कर और चंदन के रूप में न झुक जाए। अंदर की बात है कि सीएम कौन बनेगा पर अब कोई किसी तरह के बयान नहीं देगा।

Tags
advt

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.