कटघोरा वन विभाग की बड़ी कार्यवाही,वन भूमि पर अवैध तरीके से किये गए ढाबा अतिक्रमण पर चला बुलडोजर

कटघोरा वन मंडल की अतिक्रमण को लेकर यह अभी तक की पहली बड़ी कार्यवाही सामने आई है।

रिपोर्टर-अरविंद शर्मा

कटघोरा:जिला कोरबा अंतर्गत कटघोरा वन मंडल की बड़ी कार्यवाही देखने को मिली है जहां वन अमले ने मीरा वेज ढाबा पर बुलडोजर चला दिया है।आपको बता दे कि यह पूरा मामला कटघोरा वन मंडल के अंतर्गत वनपरिक्षेञ जड़गा का है जहाँ वन भूमि पर अवैध तरीके से अतिक्रमण कर मीरा वेज नामक ढाबा संचालित था जिसे वन अमले ने निस्तेनाबूत कर दिया है। कटघोरा वन मंडल की अतिक्रमण को लेकर यह अभी तक की पहली बड़ी कार्यवाही सामने आई है।

जानकारी अनुसार जड़गा से 8 किलोमीटर की दूरी पर ग्राम अमलिकुन्डा में बजरंग नाला के पास मीरा वेज ढाबा संचालित है जो कि वन भूमि पर निर्माण किया गया था ,इस निर्माण को लेकर वन विभाग द्वारा ढाबा संचालक को लगातार नोटिस जारी कर जवाब मांगा जा रहा था लेकिन ढाबा संचालक जवाब तलब में किसी तरह की रुचि नही ले रहा है।लिहाजा वन विभाग द्वारा अवैध तरीके से वन भूमि पर संचालित ढाबा को निस्तेनाबूत करने के निर्देश जारी कर दिए।

 ढाबा संचालक महिलाये वन अमले पर कई तरह के आरोप लगाते भी नजर आए

जिस पर बड़ी संख्या में वन अमला मौके पर पहुचा और ढाबा पर बुलडोजर चला दिया।इस दौरान ढाबा संचालक को सामान हटाने का समय भी पर्याप्त समय दिया गया था। कार्यवाही के दौरान ढाबा संचालक महिलाये वन अमले पर कई तरह के आरोप लगाते भी नजर आये। इनके आरोपो में कितनी सच्चाई है यह तो समझ से परे है,पर विभाग के कर्मचारियों पर इस तरह के आरोप लगना ढाबा संचालको की बोखलाहट जरूर बया कर रही है। इस पूरी कार्यवाही के दौरान पुलिस बल भी मौजूद रहा।जिसमे थाना कटघोरा प्रभारी नवीन देवांगन सहित जड़गा चौकी प्रभारी सहित पुलिस बल मौजद रहा।

सूत्रों की माने तो ढाबा संचालको ने वनभूमि पर अतिक्रमण किया हुआ था और गाँव मे किसी से अच्छा तालमेल भी नही था।बताया जाता है कि ढाबा संचालको का अक्सर किसी न किसी के साथ विवाद की स्थिति बनी रहती थी।कई दफा इनका विवाद वनकर्मियों से भी हो चुका है।स्थानीय ग्रामीण भी इस कार्यवाही से संतुष्ट नजर आ रहे हैं।आपको बता दे कि यह कटघोरा वन विभाग की अतिक्रमण को लेकर पहली और बड़ी कार्यवाही सामने आई है।वनमंडलाधिकारी ने कहा है कि आगामी दिनों में विभाग की तरफ से अतिक्रमण को लेकर मुहिम चलाई जाएगी।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button