अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की भारत यात्रा से पहले बड़े रक्षा सौदे को मिली मंजूरी

नई दिल्ली: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के भारत दौरे की तैयारियां जोरो शोरों पर हैं. इस यात्रा के दौरान भारत और अमेरिका के बीच कुछ रक्षा सौदों पर मुहर लगने की भी संभावना है. वहीं सूत्रों के हवाले से यह खबर भी दी जा रही है कि दोनों देशों के बीच हिंद-प्रशांत क्षेत्र में शांति और रणनीति एक प्रमुख मुद्दा होगा.

वहीं ट्रंप की भारत यात्रा से पहले बड़े रक्षा सौदे को मंजूरी मिली है. सुरक्षा मामलों की कैबिनेट कमेटी (CCS) ने भारतीय नौसेना के लिए अमेरिका से हेलिकॉप्टर खरीदने को मंजूरी दी है. ट्रंप 24 और 25 फरवरी को भारत के दो दिवसीय दौरे पर भारत आ रहे हैं.

सूत्रों से मिली खबर के अनुसार CCS ने अमेरिका से 24 एमएच-60 रोमियो हेलिकॉप्टर खरीदने की मंजूरी प्रदान की. भारत सरकार इसके लिए 2.6 बिलियन डॉलर खर्च करेगी. बता दें कि रोमियो हेलिकॉप्टर भारतीय नेवी के लिए बेहद खास है.

यह सतह और पनडुब्बी भेदी युद्धक अभियानों में भारतीय नौसेना की क्षमता को बढ़ाने में कारगर है. यह हेलिकॉप्टर जंगी पोतों, जहाजों, पनडुब्बियों अथवा दुश्मन के अन्य ठिकानों पर अचूक निशाना साधने में सक्षम है. समुद्र में तलाशी और बचाव कार्यों में भी इस हेलिकॉप्टर की काफी उपयोगिता है.

जानिए ‘रोमियो’ हेलिकॉप्टर की खासियतें…

-एमएच-60 रोमियो सीहॉक हेलिकॉप्टर पनडुब्बियों और पोतों पर अचूक निशाना लगाने में सक्षम हैं.
-ये हेलिकॉप्टर समुद्र में तलाश एवं बचाव कार्यों में भी बेहद उपयोगी हैं.
-दुश्मन की नावों को ट्रैक कर उनके हमलों को रोक सकता है.
-MH-60 ‘रोमियो’ सी हॉक हेलिकॉप्टर परिष्कृत लड़ाकू प्रणालियों- सेंसर, मिसाइल और टॉरपीडो से लैस हैं.
-हेलिकॉप्टर अमेरिकी नौसेना में एंटी-सबमरीन और एंटी-सरफेस वेपन के रूप में तैनात है.
-ये हेलिकॉप्टर भारतीय रक्षा बलों को सतह रोधी और पनडुब्बी रोधी युद्ध मिशन को सफलतापूर्वक अंजाम दिलाने में सक्षम बनाएगा.
-दुनियाभर की नौसेना इन्हें तैनात करती है, जिनमें रॉयल ऑस्ट्रेलियन नेवी भी शामिल है.

Tags
Back to top button