बड़ी खबर : अंबाला एयरफोर्स स्टेशन को बम से उड़ाने की धमकी

हरियाणा के अम्बाला एयरफोर्स स्टेशन को उड़ाने की मिली धमकी

नई दिल्ली। हरियाणा के अंबाला एयरफोर्स स्टेशन को बम से उड़ाने का एक धमकी भरा पत्र अंबाला एयरफोर्स स्टेशन के अधिकारियों को मिला है। 15, 17, 21, 25 और 29 अगस्त को बम धमाके से पहले दिल्ली फिर अयोध्या इसके बाद अंबाला एयरफोर्स स्टेशन और बाद में पंजाब। जिसमें यह लिखा है कि इस साजिश में 15 लोग शामिल हैं, जिसका मास्टर माइंड जालंधर रामामंडी का निवासी राजेश वैश्य को बताया जा रहा है। पत्र में जिस मोबाइल नंबर का जिक्र किया है, वह बंद है।

खुफिया एजेंसियों ने पत्र के आधार पर जांच शुरू कर दी

भेजने वाले ने खुद की पहचान जासूस मोनिका बताई है। पत्र में लिखा है कि दूसरे आतंकवादी का नाम शुभम है। यह बिलासपुर का निवासी है। इसकी कपड़े की दुकान है और मोबाइल नंबर भी है। यह सब मिले हुए हैं। बाकी लोगों के बारे में जानकारी मिली तो में आपको भेज दूंगी। खुफिया एजेंसियों ने पत्र के आधार पर जांच शुरू कर दी है।

इस पत्र में यह भी लिखा है कि मैं यह पत्र सीआरपीएफ, आईटीबीपी, सीआईएसएफ को भी भेज रही हूं। क्योंकि पुलिस के कुछ बड़े अधिकारी भी इसमें शामिल हैं। इन्होंने मुझे पकड़ लिया था और मैं वहां से भाग आई, इस दौरान मझे काफी ज़ख़्म आए है, इसलिए में उल्टे हाथ से लिख रही हूं। मझे अगर अपने देश को बचाने के लिए अपनी जान भी देनी पड़े तो में दे सकती हूं। सर प्लीज आपसे निवेदन है की आप इन सब को पकड़ लो, वरना यह बम लगा देंगे, जय हिंद जय भारत।

पत्र लिखने वाले ने दावा किया है कि बबलू कुमार आर्मी से रिटायर है। दूसरा जय है, यह भी आर्मी से है। तीसरा मनीष जाट मोबाइल नंबर व एक प्रवीन आर्मी में है, उनका मोबाइल नंबर भी है। ये लोग मिलकर अपने काम में लगे हैं। यह तीनो आर्मी से रिटायर्ड है।

एसपी अभिषेक जोरवाल ने कहा की एयरफोर्स स्टेशन के नाम पर जो पत्र भेजा गया है, वह धमकी भरा नहीं है। यह किसी की शरारत भी हो सकती है। पत्र में दिए गए मोबाइल नंबर किसी दुकानदार के हैं। इनमें से एक व्यक्ति की यमुनानगर में दुकान है। इस मामले की जांच चल रही है।

Tags
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button