बड़ी खबर: Google ने प्ले स्टोर से हटाया Paytm ऐप, नियमों के उल्लंघन का दिया हवाला, पेटीएम ने ग्राहकों से कहीं यह बात

गूगल प्ले स्टोर ने डिजिटल पेमेंट ऐप Paytm को हटा दिया है. प्ले स्टोर ने पेटीएम पर नियमों के उल्लंघन का आरोप लगाते हुए यह कार्रवाई की है. पेटीएम के प्ले स्टोर से हटने के बाद सवाल उठने लगे हैं कि पेटीएम वॉलेट में रखे पैसे का अब क्या होगा. इस संबंध में भी पेटीएम ने सफाई दी है.

नई दिल्ली। गूगल प्ले स्टोर ने डिजिटल पेमेंट ऐप Paytm को हटा दिया है. प्ले स्टोर ने पेटीएम पर नियमों के उल्लंघन का आरोप लगाते हुए यह कार्रवाई की है. पेटीएम के प्ले स्टोर से हटने के बाद सवाल उठने लगे हैं कि पेटीएम वॉलेट में रखे पैसे का अब क्या होगा. इस संबंध में भी पेटीएम ने सफाई दी है.

Paytm पर क्‍यों हुई कार्रवाई
गूगल अपने प्‍लैटफॉर्म पर किसी भी तरह की गैम्‍बलिंग या बेटिंग एप्‍स को जगह नहीं देता. पेटीएम की ऐप से एक बेटिंग एप पर यूजर को री-डायरेक्‍ट किया जा रहा था. गूगल ने पेटीएम डेवलपर्स को पहले नोटिस जारी किया था. मगर कोई ऐक्‍शन न होने पर कंपनी ने आखिरकार एप को रिमूव कर दिया है.

गूगल ने जारी किया बयान
गूगल ने बयान जारी कर कहा है कि हम अपने प्ले स्टोर पर ऑनलाइन कसीनो या फिर किसी भी तरह के अनियमित गैंबलिंग ऐप जो स्पोर्ट्स में सट्टा लगाने की सुविधा देते हैं. इसमें ऐसे ऐप्स भी शामिल हैं, जो उपभोक्ताओं को ऐसी बाहरी वेबसाइटों पर ले जाते हैं, जो उन्हें किसी पेड टूर्नामेंट में नकद पैसे या फिर कैश प्राइज़ जीतने के लिए भाग लेने को कहती हैं. यह हमारी पॉलिसीज़ का उल्लंघन है. जब कोई ऐप इन नीतियों का उल्लंघन करता है, तो उसके डेवलपर को इस बारे में सूचित किया जाता है और जब तक डेवलपर ऐप को नियमों के अनुरूप नहीं बनाता है. उसे तब तक गूगल प्ले स्टोर से हटा दिया जाता है.

पेटीएम ने दी सफाई
पेटीएम ने ट्वीट कर लिखा है कि डियर पेटीएमर्स, पेटीएम एंड्रॉयड ऐप नए डाउनलोड और अपडेट्स के लिए उपलब्ध नहीं है. हम जल्द ही वापस आएंगे. आपका पूरा पैसा सुरक्षित है और आप पेटीएम सामान्य तरीके से इस्तेमाल कर पाएंगे. बता दें कि हाल ही में फैंटेसी क्रिकेट टूर्नामेंट के लिए पेटीएम ने ऑनलाइन कैश जिताने वाले ऐसे ही एक फीचर को लॉन्च किया था.

Tags
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button