राष्ट्रीय

पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर फिर आई बड़ी खबर, खुद पेट्रोलियम मंत्री ने दी जानकारी

नई दिल्ली: पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों पर बड़ी खबर है। कई दिनों से लगातार रेट बढ़ने के बाद तेल के दाम आसमान को छू गए है। ऐसे में केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने रविवार को बताया कि ईंधन की कीमत बढ़ने के पीछे दो मुख्य कारण हैं। अंतर्राष्ट्रीय बाजार ने ईंधन का उत्पादन कम कर दिया है और अधिक लाभ प्राप्त करने के लिए वह देश कम ईंधन का उत्पादन कर रहे हैं। इससे तेल का इस्तेमाल करने वाले देशों में तेल की कीमत बढ़ रही हैं। पेट्रोलियम मंत्री ने कहा कि तेल कीमत बढ़ने का एक और कारण COVID है। हमें बहुत सारे विकास कार्य करने हैं।

इसके लिए केंद्र और राज्य सरकार टैक्स इकठ्ठा करती है। विकास कार्यों पर खर्च करने से अधिक रोजगार पैदा होंगे। सरकार ने अपने निवेश में वृद्धि की है और इस बजट में 34 फीसदी अधिक पूंजी व्यय किया जाएगा। धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि राज्य सरकार के खर्च में भी वृद्धि होगी। यही कारण है कि हमें इस कर की आवश्यकता है लेकिन संतुलन की आवश्यकता भी है। मेरा मानना है कि वित्त मंत्री एक रास्ता खोज सकती हैं।

इसके अलावा पेट्रोल डीजल की कीमत में कटौती कर दी गई है। तेल के दाम में यह कटौती लोगों की मांग और महंगाई को ध्यान में रखकर की गई है। पश्चिम बंगाल में चुनाव होने वाले है ऐसे में वहां राज्य सरकार ने पेट्रोल और डीजल के दाम कम कर दिए है। पश्चिम बंगाल के वित्त मंत्री अमित मित्रा ने जानकारी देते हुए कहा कि पश्चिम बंगाल सरकार ने पेट्रोल और डीजल की कीमतों में 1 रुपए की कटौती की है। यह कटौती तेल कीमतों पर आज आधी रात से लागू हो जाएगी।

इंडियन ऑयल की वेबसाइट के अनुसार, दिल्ली, कोलकाता, मुंबई और चेन्नई में पेट्रोल का भाव रविवार को बिना किसी बदलाव के क्रमश: 90.58 रुपये, 91.78 रुपये, 97 रुपये और 92.59 रुपये प्रति लीटर बना रहा। डीजल की कीमतें दिल्ली, कोलकाता, मुंबई और चेन्नई में भी क्रमश: 80.97 रुपये, 84.56 रुपये, 88.06 रुपये और 85.98 रुपये प्रति लीटर पर स्थिर बनी रही।

फिलहाल देश में पेट्रोल और डीजल की कीमत अपने रिकॉर्ड स्तरों पर पहुंच चुकी है। कीमतों में तेजी के पीछे कच्चे तेल में बढ़त के साथ साथ सरकारों के द्वारा लगाए जाने वाले टैक्स हैं। महामारी की वजह से सरकार की आय में गिरावट देखने को मिली है लेकिन खर्च काफी बढ़ गए हैं, जिससे सरकार के सामने टैक्स घटाने के विकल्प काफी सीमित हैं। इस साल की शुरुआत के साथ ही पेट्रोल और डीजल की कीमतों में लगातार बढ़त देखने को मिल रही है। तब से अब तक पेट्रोल और डीजल में साढ़े 4 रुपये प्रति लीटर से ज्यादा की बढ़त देखने को मिल चुकी है।

अंतर्राष्ट्रीय वायदा बाजार इंटरकांटिनेंटल एक्सचेंज आईसीई) पर बेंचमार्क कच्चा तेल ब्रेंट क्रूड का अप्रैल डिलीवरी अनुबंध शुक्रवार को बीते सत्र से 1.89 फीसदी की कमजोरी के साथ 62.72 डॉलर प्रति बैरल पर बंद हुआ। न्यूयार्क मर्केंटाइल एक्सचेंज नायमैक्स) पर वेस्ट टेक्सस इंटरमीडिएट डब्ल्यूटीआई) का मार्च अनुबंध बीते सत्र से 2.45 फीसदी की गिरावट के साथ 59.04 डॉलर प्रति बैरल पर बंद हुआ।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button