शिवराज की ‘नर्मदा सेवा यात्रा’ में हुआ बड़ा घोटाला? एक वक्‍त की आरती का खर्च 59 हजार रुपए

मध्यप्रदेश में नर्मदा नदी को अविरल, प्रदूषण मुक्त बनाने के लिए निकाली गई ‘नमामि देवी नर्मदे सेवा यात्रा’ में नियमित तौर पर सुबह और शाम को नर्मदा नदी के तट पर आरती की गई।

इस आरती में भी बड़े घोटाले की बू आ रही है, क्योंकि एक वक्त की आरती पर 59 हजार रुपए का खर्च बताया गया है, जो अन्य खर्चों के अलावा है। जन अभियान परिषद के उपाध्यक्ष प्रदीप पांडे ने आईएएनएस को बताया कि हर रोज सुबह और शाम को आरती का प्रावधान रहा।

इसकी जिम्मेदारी साध्वी प्रज्ञा भारती और उनकी मंडली के जिम्मे रही। उन्होंने कहा कि इस 148 दिन की यात्रा में लगभग 50 स्थानों पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी शामिल हुए।

आरती में होने वाले खर्च के सवाल पर उन्होंने कहा कि इसके लिए खर्च का कोई प्रावधान नहीं था। आखिर यह खर्च कैसे बताया गया, इससे वे अनभिज्ञ हैं। वहीं, खरगौन के महिमाराम भार्गव ने सूचना के अधिकार के तहत जो जानकारी हासिल की है, उसमें एक आरती चार मार्च को महेश्वर के घाट में हुई थी, उसका खर्च 58,650 रुपए बताया गया है।

यह भुगतान जनपद पंचायत महेश्वर द्वारा किया गया है। भार्गव के मुताबिक, इस आरती में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान शामिल हुए थे और 58,650 रुपए का आरती का भुगतान इंदौर की एक इवेंट मैनेजमेंट कंपनी को किया गया।

advt
Back to top button