राज्य

बिहार चुनाव : दूसरे चरण के चुनाव में कांग्रेस की मुश्किलें,सात सीटें बचाना कांग्रेस के लिए बड़ी चुनौती

इस चरण में कांग्रेस के चार दिग्गजों की प्रतिष्ठा भी दांव पर लगी है.

पटना: बिहार विधानसभा चुनाव के दूसरे चरण में कांग्रेस के लिए अपनी जीती हुई सात सीटें बचाना एक बड़ी चुनौती बन गयी है. दरअसल 2015 के बिहार विधान सभा चुनाव में कांग्रेस की जीती हुई तीन सीटें इस बार वाम दल को चली गई हैं और जो सीटें कांग्रेस के पास है उन पर टक्कर बीजेपी के प्रत्याशियों से है. जो तीन सीटें वामदल के खाते में गयी हैं उनमें भी बछवारा में बीजेपी से तो मांझी और भोरे में जेडीयू से टक्कर है, इस चरण में कांग्रेस के चार दिग्गजों की प्रतिष्ठा भी दांव पर लगी है.

कांग्रेस की बड़ी चुनौती

बिहार विधान सभा चुनाव के दूसरे चरण में जिन 94 सीटों पर चुनाव होना है उनमें कांग्रेस के हिस्से में 24 सीटें आई हैं, इन 24 सीटों में पिछले चुनाव में कांग्रेस ने सात सीटें जीती थीं, और जो सीटें कांग्रेस को इस बार मिली है उनमें मात्र आठ सीटों पर ही पिछले चुनाव में कांग्रेस लड़ी थी इस बार ये सीटें पार्टी के लिए बिल्कुल नई है इन सीटों पर भी जीत की दर्ज कराना इनके लिए बड़ी चुनौती है.

मांझी से चुनाव जीते पूर्व मंत्री विजय शंकर दुबे को पार्टी ने महाराजगंज से चुनाव में उतारा है तो रोसड़ा से चुनाव डॉ अशोक कुमार इस बार कुशेश्वर स्थान से किस्मत आजमा रहे हैं वहीं महिला कांग्रेस की अध्यक्ष अमिता भूषण बेगूसराय से चुनाव लड़ रही हैं तो पार्टी के बड़े नेताओं में शुमार कृपा नाथ पाठक फुलपरास से अपनी किस्मत आजमा रहे हैं.
कांग्रेस के खाते में गई दूसरे चरण की सीटें

दूसरे चरण में जो सीटें कांग्रेस के खाते में गई हैं वो हैं बांकीपुर, पटना साहेब, बेनीपुर, भागलपुर, रोसड़ा, राजापाकर, बेगूसराय, खगड़िया, बेलदौर, राजगीर, नालंदा, चनपटिया, बेतिया, गोविंदगंज, फुलपरास, कुशेश्वर स्थान, पारू, गोपालगंज, कुचायकोट, महाराजगंज, लालगंज, वैशाली, राजापाकर, रोसड़ा.इन सीटों पर होगा कल चुनाव और प्रत्यासियों की किस्मत हो जाएगी ईवीएम मे बंद.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button