बिहार में फिर आरक्षण की राजनीति गरमाने पर जानें तेजस्वी ने क्या कहा

कभी बिहार के विधानसभा चुनाव में बीजेपी पर आरक्षण खत्म करने का आरोप लगाकर चुनावी फायदा हासिल करने वाली RJD अब लोकसभा चुनाव में भी वही दांव चल रही है

नई दिल्ली: बिहार में अब लोकसभा चुनाव में भी आरक्षण का मुद्दा गरमाने लगा है. अभी दो चरण के मतदान बाक़ी है लेकिन आरक्षण के मुद्दे पर जहां एक ओर महागठबंधन आक्रमक है वहीं NDA के नेता हर चुनावी सभा में सफ़ाई देते फिर रहे हैं. एक अंग्रेजी अखबार में छपी ख़बर के आधार पर विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार जल्द पिछड़ी जातियों के आरक्षण में एक ओर जहां कटौती करने जा रही है वहीं धीरे धीरे अति पिछड़ी जातियों और भविष्य में दलितों के आरक्षण को भी ख़त्म करने के अपने एजेंडा पर काम कर रही है.

चुनाव प्रचार में जाने से पूर्व तेजस्वी यादव ने पटना में पत्रकारों को इस अख़बार की कतरन दिखाते हुए कहा कि यह जो ख़बर छपी है इससे हमारा आरोप और प्रमाणित होता है कि आने वाले दिनों में केंद्र सरकार पहले पिछड़ी जातियों जैसे कुशवाहा कुर्मी दांगी और यादवों के आरक्षण के वर्तमान कोटे में कटौती आएगी और भविष्य में धीरे धीरे दलितों के भी आरक्षण को ख़त्म कर दे तो कोई आश्चर्य नहीं हैं.

तेजस्वी ने कहा कि हम लोग हमेशा कहते थे कि BJP से संविधान को ख़तरा है और आरक्षण ख़त्म करने जा रही है. आज एक अंग्रेज़ी अख़बार में ये आया है कि पिछड़ों को जो आरक्षण था एकदम समाप्त करने का काम किया जा रहा है. ये लोग जो पिछड़े हैं जैसे कुर्मी, अहीर, उसके बाद अति पिछड़ों और फिर बाद में दलितों का भी आरक्षण खत्म कर देंगे. ये जो सारा रिपोर्ट है यह सामने आया है हम लोग जो बात कहते थे कि आरक्षण पर ख़तरा है और जो संविधान बचाने की बात कर रही. यह साबित हो गया इनके कथनी और करनी में अंतर है. हालांकि बिहार के मुख्य मंत्री नीतीश कुमार अपनी हर सभा मे इस बात का खंडन करते हैं कि आरक्षण के साथ कोई छेड़छाड़ किया जा रहा है या भविष्य में कोई भी दल या गठबंधन आरक्षण को ख़त्म करने की हिम्मत करेगा.

Back to top button